Bay Leaf क्या होता है? तेजपत्ता के फायदे और नुकसान? जानिए Tejpatta Ke Fayde aur Nuksan से जुड़ी सभी जानकारी हिन्दी में

आज हम जानेंगे तेजपत्ता के फायदे और नुकसान क्या है पूरी जानकारी (Bay Leaf in Hindi) के बारे में क्योंकि मसाला किसी भी खाने को स्वादिष्ट बनाता है और आपको बता दें कि दुनिया में सबसे अधिक मसाले की पैदावार हमारे भारत देश के द्वारा ही की जाती है। तेजपत्ता भी एक ऐसा मसाला है जो बड़े पैमाने पर हमारे भारत देश में उगाया जाता है और इसका इस्तेमाल देश के भीतर भी होता है और देश के बाहर भी इसका इस्तेमाल होता है।

तेज पत्ते को ही अंग्रेजी भाषा में Bay Leaf कहा जाता है। यह एक ऐसा मसाला होता है जो किसी भी खाने में स्वाद को काफी ज्यादा बढ़ा देता है। इसके अलावा जिस खाने में तेजपत्ता पड़ा हुआ होता है, वह खाना काफी ज्यादा महकता है। आज के इस लेख में जानेंगे कि Bay Leaf Kya Hai, तेजपत्ता के फायदे, तेजपत्ता के नुकसान, Bay Leaf in Hindi, Bay Leaf meaning in Hindi, आदि की जानकारीयां पूरा डिटेल्स में जानने को मिलेगा, इसलिये इस लेख को सुरू से अंत तक जरूर पढे़ं।

तेजपत्ता क्या होता है? – What is Bay Leaf in Hindi

Bay Leaf in Hindi
Bay Leaf in Hindi

Bay Leaf को ही हिंदी में तेजपत्ता कहा जाता है और इस बात से तो सभी लोग परिचित हैं कि Bay Leaf यानी की तेजपत्ता एक बहुत ही अच्छा मसाला होता है और इंडिया के अधिकतर घरों में इसे पाया जाता है। जिस खाने में Bay Leaf को डाला जाता है वह खाना सुगंध वाला खाना बन जाता है, साथ ही उसका टेस्ट भी खाने में काफी ज्यादा अच्छा लगता है। इसलिए तेज पत्ते को इंडियन रसोई में अन्य मसालों के साथ इस्तेमाल किया जाता है।

तेज पत्ते की जो पत्तियां होती है, वह मार्केट में हमें सूखी हुई प्राप्त होती हैं और फिर हम चाहे तो इसे खड़ा भी खाने में डाल सकते हैं या फिर इसे पीस करके भी खाने में डाल सकते हैं। आयुर्वेद के अंदर भी तेज पत्ते का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार की बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाता है। इसकी तासीर गर्म होती है। इसलिए सर्दी खांसी जैसी समस्याओं में इसे इस्तेमाल किया जाता है।

बे लीफ का मतलब क्या है? – Bay Leaf meaning in Hindi

जिस प्रकार हर चीज का वानस्पतिक नाम होता है, उसी प्रकार इसे लॉरेस नोबिलिस का वनस्पतिक नाम दिया गया है। तेज पत्ते की सुगंध सूंघने में काफी अच्छी लगती है और प्राप्त जानकारियों के अनुसार ऐसा माना जाता है कि लोगों की विभिन्न प्रकार की समस्याओं का इलाज करने के लिए और खाने की सुगंध को तथा खाने के टेस्ट को बढ़ाने के लिए बहुत सालों पहले से ही इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें : कॉर्नफ्लोर क्या होता है? कॉर्न फ्लोर के फायदे और नुकसान?

आपको यह जानकर भी अचरज होगा कि तेज पत्ते की सिर्फ एक ही वैरायटी नहीं है बल्कि पूरे दुनिया भर में इसकी 2400 से लेकर 2500 वैरायटी पाई जाती है। इसकी कुछ वैरायटी के नाम टेनोन, फ्लेवोन, फ्लेवोनॉयड्स, एल्केमाइट्स, यूजिनॉल, लीनालूल, एंथोसाइएनिन है। तेज पत्ते का इस्तेमाल सिर्फ मसाला के तौर पर ही नहीं होता बल्कि इसमें से सुगंधित तेल भी प्राप्त किया जाता है जिसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के एसेंशियल ऑयल को बनाने के लिए होता है।

तेजपत्ता के फायदे – Benefits of Bay Leaf in Hindi

भारतीय खाने का स्वाद बढ़ाने वाला तेजपत्ता औषधि के तौर पर भी इस्तेमाल किया जाता है।‌इसके एक ही नहीं बल्कि कई फायदे हमारी बॉडी को होते हैं जिनमें से कुछ के बारे में आपको नीचे बताया गया है।

1. डायबिटीज में तेजपत्ता दिलाए फायदा

क्या आप जानते हैं कि अगर आपको डायबिटीज की समस्या है तो ऐसी अवस्था में तेजपत्ता से बनी हुई कैप्सूल को खाने से आपकी बॉडी में जो इंसुलिन का लेवल होता है वह काफी हद तक सुधार की ओर आगे बढ़ता है और जब किसी व्यक्ति की बॉडी में मौजूद खून के अंदर गुलकोज का जो लेवल होता है वह कम होता है तो इससे डायबिटीज की समस्या में आराम मिलता है।

अब आप यह सोच रहे होंगे कि अगर तेजपत्ता डायबिटीज के लिए फायदेमंद है तो इसका सेवन कैसे किया जा सकता है, तो हम बता दें कि आप दूध के साथ तेज पत्ते के पाउडर को ले सकते हैं। इसके लिए आपको दो चम्मच तेज पत्ते के पाउडर को दूध में मिलाकर पी जाना है। इसमें आपको यह ध्यान रखना है कि आप को दूध में चीनी नहीं मिलानी है। सिर्फ तेजपत्ता और दूध का ही सेवन आपको लगातार दो महीने तक करना है।

2. सांस तंत्र के लिए है तेजपत्ता फायदेमंद

तेजपत्ता की जो तासीर होती है, वह गर्म होती है। इसलिए सर्दियों के मौसम में अगर आप खांसी या फिर जुखाम जैसी समस्या से परेशान हो जाते हैं, तो आपको तेज पत्ते का सेवन कर ही लेना चाहिए, क्योंकि गरम तासीर होने के कारण यह आपकी खांसी और जुखाम को 5 से 10 मिनट के अंदर ही छूमंतर कर देता है।

ये भी पढ़ें : प्रोटीन पाउडर क्या होता है? प्रोटीन पाउडर के फायदे और नुकसान

इसके लिए सबसे पहले तो आपको दो गिलास पानी लेना चाहिए और उसके अंदर आपको तेजपत्ता डालना चाहिए। अब आपको इसे गर्म करना चाहिए और हल्का गुनगुना होने के बाद आपको इसे पी जाना चाहिए।‌यह उपाय करने से आपको खांसी और सर्दी की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा क्योंकि तेज पत्ते के अंदर एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं। इसके साथ ही इसमें एथनॉलिक एक्सट्रैक्ट भी पाया जाता है।

3. दातों में भी दिलाए फायदा

अगर आपके दांत में कीड़े लग चुके हैं या फिर आपके दांतों में से खून बहता है तो दोनों ही चीजों की रोकथाम के लिए तेजपत्ता आपको अवश्य इस्तेमाल करना चाहिए। इसके पीछे कारण यह है कि तेज पत्ते में विटामिन सी और टैनिन की मात्रा अच्छी खासी पाई जाती है, जो आपके दातों में लग चुके कीड़ों को तो खत्म करती ही है, साथ ही यह आपके जबड़ों को स्वस्थ बनाती है और खून का बहाव भी आपके दांतों में से रोकती है।

दांतों में से बहने वाले खून को रोकने के लिए, दांतों के कीड़े को खत्म करने के लिए आपको तेज पत्ते का पाउडर बना लेना है और आपको रोज सुबह इसी पाउडर से दांतों पर अपने हाथों से लगाना है। यह उपाय दांतों को स्वस्थ बनाता है और दांतों के कीड़ों को खत्म करता है।

4. कैंसर से बचाए तेजपत्ता

वैसे तो अभी तक कैंसर की कोई असरदार दवा नहीं बनी है परंतु इससे सावधानी के तौर पर आप Bay Leaf यानी कि तेजपत्ता इस्तेमाल कर सकते हैं। तेजपत्ता का इस्तेमाल जब आप करते हैं तो यह आपकी बॉडी में जाने के बाद अपना काम चालू करता है जिसके अंतर्गत यह सबसे पहले उन कोशिकाओं को धीरे-धीरे खत्म करने का काम करता है जो कोशिकाएं कैंसर की समस्या को बढ़ाने का काम करती हैं और जब कोशिकाओं का नाश होता है तो कैंसर का खतरा आपकी बॉडी में काफी कम हो जाता है।‌ ऐसे में आप अपना बेहतर इलाज करवा करके काफी हद तक कैंसर की समस्या को कंट्रोल कर सकते हैं।

5. सूजन घटाने में फायदेमंद होता है तेजपत्ता

कभी-कभी चोट लग जाने पर हमारे बॉडी में घाव बन जाता है और वहां पर सूजन भी पैदा हो जाती है। अगर यह समस्या आपको भी है तो तेज पत्ते को आपको खाना चालू कर देना चाहिए। COX-2 नाम का एक एंजाइम तेज पत्ते में पाया जाता है और अपनी इसी खूबी के कारण यह सूजन को घटाने के लिए एक अच्छी आयुर्वेदिक औषधि मानी जाती है।

ये भी पढ़ें : ड्रमस्टिक क्या होता है? जानिए Drumstick (सहजन) के फायदे, नुकसान, प्रकार, उपयोग 

अपनी सूजन को कम करने के लिए आपको तेज पत्ते के पाउडर को ग्लिसरीन में मिलाकर के पेस्ट बना लेना है और जिस जगह पर आपको सूजन है, वहां पर इसे लगाना है, उसके बाद पट्टी कर लेनी है। यह बहुत ही अच्छा रिजल्ट आपको कुछ ही टाइम के अंदर देगा।

तेजपत्ता के नुकसान – Side Effects of Bay Leaf in Hindi

ऊपर हमने आपको बताया कि Bay Leafफ के कौन से फायदे होते हैं। हालांकि हमने ऊपर जिन फायदे के बारे में आपको बताया है, उसके अलावा भी कई फायदे तेज पत्ते के होते हैं। अब यहां नीचे आप यह जानेंगे कि आखिर तेजपत्ता यानी की Bay Leaf के दुष्प्रभाव यानी की साइड इफेक्ट क्या है।

1. अगर अपनी बॉडी में आप किसी भी प्रकार की सर्जरी करवाने जा रहे हैं, तो सर्जरी करवाने के 2 सप्ताह पहले से ही आपको तेजपत्ता को खाना स्टॉप करना चाहिए।

2. वैसे तो इस बारे में कोई भी सटीक इंफॉर्मेशन नहीं है परंतु कुछ लोगों के अनुसार जिन महिलाओं को बच्चा होने वाला है या फिर जिन महिलाओं के पेट में बच्चा है, उन्हें Bay Leaf को किसी भी प्रकार से अपने इस्तेमाल में नहीं लेना चाहिए। अगर वह इसका इस्तेमाल करना भी चाहती हैं, तो सबसे पहले उन्हें अच्छे डॉक्टर से इसके बारे में कंसल्ट करना चाहिए और उसके बाद ही इसे ट्राई करना चाहिए अथवा नहीं।

3. डायबिटीज के रोगियों के लिए तो तेजपत्ता फायदेमंद है परंतु फिर भी इस की तासीर गर्म होने के कारण आपको इसे इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से पूछना चाहिए तभी आगे कुछ करना चाहिए।

ये भी पढ़ें : ओट्स क्या होता है? ओट्स खाने के फायदे और नुकसान?

4. जिस एसेंशियल ऑयल में तेजपत्ता मिलाया गया होता है वह कुछ लोगों की स्किन पर एलर्जी पैदा कर सकता है। खासतौर पर उन्हें एलर्जी का सामना करना पड़ सकता है जिन लोगों की त्वचा सेंसिटिव होती है।

तेजपत्ता का उपयोग – Uses of Bay Leaf in Hindi

आपने ऊपर जाना कि तेजपत्ता क्या है और Bay Leaf के फायदे और नुकसान क्या है। आइए अब Bay Leaf का इस्तेमाल क्या है? इसके बारे में भी इंफॉर्मेशन प्राप्त करते हैं।

1. मसाला की कैटेगरी में आने के कारण इंडिया ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में तेजपत्ता का इस्तेमाल खाना का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है और इसके इस्तेमाल से खाने में अच्छी सुगंध भी आती है।

2. घर के अलावा ऐसे दुकानदारों के द्वारा तेज पत्ते का इस्तेमाल किया जाता है जो पुलाव, मटन करी, चिकन या फिर बिरियानी बनाते हैं क्योंकि गर्म तासीर होने के कारण यह काफी अच्छा जायका इन सभी चीजों में देता है।

3. वेजीटेरियन ओर नॉनवेजिटेरियन दोनों ही प्रकार के चावल पुलाव में तेजपत्ता डाला जाता है।

4. खाना बनाने में तेज पत्ते का इस्तेमाल पाउडर के फॉर्म में किया जाता है, वही सूजन को कम करने के लिए या फिर औषधि के तौर पर इसका इस्तेमाल पेस्ट बनाकर के किया जाता है या फिर इसके तेल का इस्तेमाल किया जाता है।

5. जुखाम या फिर सर्दी अथवा डाइजेस्टिव सिस्टम से संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए तेज पत्ते का काढ़ा प्रयोग में लिया जाता है जिसमें कभी-कभी तुलसी, काली मिर्च और अजवाइन भी डाली जाती है।

तेजपत्ता के पाउडर के फायदे – Benefits of Bay Leaf Powder in Hindi

तेजपत्ता जब पीसा हुआ नहीं होता है तो उसे खड़ा तेजपत्ता कहते हैं। यह आमतौर पर पुलाव में अधिक डाला जाता है। इसके अलावा जब तेज पत्ते को पीस लिया जाता है तो उसे तेजपत्ता का पाउडर कहा जाता है जिसका इस्तेमाल खाना बनाने में आवश्यकतानुसार किया जाता है। मटन करी, चिकन पुलाव जैसे नॉन वेजिटेरियन खाने में काफी भारी मात्रा में तेजपत्ता का पाउडर इस्तेमाल में लिया जाता है। हालांकि इसमें भी इसे आवश्यकता अनुसार ही डाला जाता है। इसके अलावा काढ़ा बनाने के लिए तेज पत्ते के पाउडर का यूज होता है।

Bay Leaf यानि तेजपत्ता के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Bay Leaf का साइंटिफिक नाम क्या है?

लॉरेस नोबिलिस

तेजपत्ता किस काम आता है?

यह खाने का स्वाद बढ़ाता है और उसकी सुगंध में भी इजाफा करता है।

तेजपत्ता का पानी पीने से क्या होता है?

सर्दी और जुकाम की समस्या में आराम मिलता है, साथ ही पेट से संबंधित समस्या भी खत्म होती है।

तेजपत्ता का पौधा कहां मिलेगा?

आप इसे नर्सरी से ले सकते हैं।

निष्कर्ष

आज के इस लेख में आपने जाना की  तेजपत्ता क्या होता है? और तेजपत्ता के फायदे और नुकसान? (Bay Leaf in Hindi) इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद भी अगर आपके मन में Bay Leaf Ke Fayde aur Nuksan को लेकर कोई सवाल उठ रहा है तो आप नीचे Comment करके पूछ सकते हैं। हमारी विशेषज्ञ टीम आपके सभी सवालों का जवाब देगी।

अगर आपको लगता है कि इस लेख में कोई गलती है तो आप नीचे Comment करके हमसे बात कर सकते हैं, हम उसे तुरंत सुधारने की कोशिश करेंगे। अगर आपको हमारे द्वारा Bay Leaf in Hindi पर दी गई जानकारी पसंद आई है और आपको इस लेख से कुछ नया सीखने को मिलता है, तो इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर शेयर करें। आप इस लेख का पोस्ट लिंक ब्राउजर से कॉपी कर सोशल मीडिया पर भी साझा कर सकते हैं।

Leave a Comment