चक्रासन क्या है? चक्रासन कैसे किया जाता है? चक्रासन के फायदे और नुकसान क्या है?

आज हम जानेंगे चक्रासन क्या है और कैसे करे पूरी जानकारी (Chakrasana in Hindi) के बारे में क्योंकि यह निश्चित है कि आपने या तो टीवी पर अथवा यूट्यूब पर बाबा रामदेव के द्वारा Chakrasana को करते हुए देखा होगा अथवा आपने कहीं ना कहीं चक्रासन के नाम के बारे में अवश्य सुना होगा, तभी तो आप यह जानने की इच्छा रख रहे हैं कि वास्तव में चक्रासन होता क्या है और Chakrasana को करने का सही तरीका क्या है। योगा के अंदर अलग-अलग आसन होते हैं जिन्हें करने के लिए अलग-अलग प्रक्रिया का पालन लोगों को करना पड़ता है।

योगासन करने का लाभ पूरा-पूरा तभी प्राप्त होता है, जब इसे सुबह के समय में किया जाए, क्योंकि अधिकतर योगा ट्रेनर के द्वारा यही कहा जाता है कि योगा को सुबह के समय में करना ही बढ़िया माना जाता है। आज के इस लेख में जानेंगे कि Chakrasana Kya Hota Hai, चक्रासन के फायदे, Chakrasana Yoga in Hindi, सर्वांगासन के नुकसान, chakrasana benefits in hindi, चक्रासन कैसे करे, आदि की जानकारीयां पूरा डिटेल्स में जानने को मिलेगा, इसलिये इस लेख को सुरू से अंत तक जरूर पढे़ं।

चक्रासन क्या है? – What is Chakrasana Yoga in Hindi

Chakrasana Yoga In Hindi
Chakrasana Yoga In Hindi

सुबह के समय में किया जाने वाला चक्रासन एक बहुत ही बढ़िया योगा का आसान है। चक्र का अगर आप हिंदी में मतलब निकालेंगे तो इसका मतलब पहिया होता है। जब कोई व्यक्ति Chakrasana करता है तो चक्रासन करने के दरमियान उसकी बॉडी का सेप कुछ इस प्रकार से बन जाता है कि वह एक चक्र की तरह दिखाई देता है।

और इसलिए योगा की किताबों में इसे चक्रासन का नाम दिया गया है। आपको यह भी बता दें कि, यह जो चक्रासन होता है, यह धनुरासन के ठीक उल्टा होता है। इसीलिए आप Chakrasana को उर्ध्व धनुरासन भी कह सकते हैं। भारतीय योग शास्त्रों में Chakrasana को मणिपुरक चक्र के तहत अंकित किया गया है।

चक्रासन करने की विधि क्या है? – How to do Chakrasana in Hindi

प्राप्त जानकारियों के अनुसार हमें यह पता चला है कि जिस प्रकार योगासन में अन्य कई नॉर्मल योगासन होते हैं, उस प्रकार चक्रासन आसान नहीं होता है। इसलिए हमारी सलाह के अनुसार किसी एक्सपर्ट योगा ट्रेनर की देखरेख में ही आपको इसे करना चाहिए। खैर फिलहाल अगर आपने इसे करने का मन बनाया है, तो नीचे आपको Chakrasana करने का तरीका क्या है, यह बताया जा रहा है।

1.  सुबह का समय Chakrasana करने के लिए सबसे बढ़िया समय माना जाता है। इसलिए सुबह के समय लगभग 5:00 बजे के आसपास उठ जाएं।

2. उठने के बाद सीधा अपने घर की छत पर चले जाएं या फिर ऐसी जगह पर जाए जहां पर आपको चक्रासन करना है।

3. जगह पर पहुंचने के बाद एक चटाई बिछाए और उसके ऊपर अपनी पीठ के बल सीधा लेट जाएं।

4. अब अपने दोनों पैरों के बीच थोड़ा सा अंतर बना ले। यह अंतर 1 फिट का होना चाहिए। इसके साथ ही अपनी एड़ियो को जमीन पर टच कर ले।

5. अब अपने दोनों हाथ के पंजे को जमीन पर टच करें और आपका जो पेट वाला हिस्सा है, उसे ऊपर उठाएं। यह कुछ इस प्रकार से है कि आपके दोनों पैर जमीन में टच रहे और आपके दोनों हाथ जमीन में टच रहे। बाकी बीच वाला हिस्सा ऊपर उठा रहे।

चक्रासन करने की विधि
चक्रासन करने की विधि

6. अब आपको अपनी बॉडी को ढीला छोड़ देना है और हल्की हल्की सांसे लेनी है।

7. आपको जब तक कंफर्टेबल लगे तब तक आपको ऐसी अवस्था में रहना है और जब आपको दर्द होने लगे तो आपको वापस से पहले की पोजीशन में आ जाना है।

8. इसके बाद आपको फिर से यही क्रिया दोहरानी है। एक बार में आप 10 से 12 बार यह क्रिया कर सकते हैं।

चक्रासन करने के फायदे – Benefits of Chakrasana in Hindi

नीचे उन सभी फायदे को मेंशन किया गया है, जो चक्रासन करने पर प्राप्त होते हैं।

1. चर्बी खत्म करें Chakrasana

चर्बी अधिकतर कमर के इलाके में और पेट के हिस्से में ज्यादा होती है, जो आपके पेट को बाहर उभरा हुआ दिखाती है। इसे हटाने के लिए Chakrasana इफेक्टिव योगासन माना जाता है। चक्रासन करने पर पेट की चर्बी में खिंचाव पैदा होता है जिससे वहां की चर्बी धीरे-धीरे गलना चालू हो जाती है। बेहतर परिणाम के लिए 4 से 6 महीने चक्रासन करें।

2. कमर मजबूत करे चक्रासन

एक ही जगह लगातार बैठकर काम करने पर अधिकतर लोगों को कमर में दर्द की शिकायत हो जाती है। वह अपनी यह शिकायत सुबह उठ करके सिर्फ आधे घंटे Chakrasana करके दूर कर सकते हैं। चक्रासन करने पर कमर की हड्डियो में लचीलापन आता है, जो कमर को दर्द से आराम देता है और कमर को स्ट्रांग भी बनाता है।

ये भी पढ़ें : हलासन क्या होता है? हलासन कैसे करते है? जानिए हलासन के फायदे और नुकसान

3. जांघों की चर्बी खत्म करें चक्रासन

अगर आपकी जांघ कमजोर है अथवा आपकी जांघो के आसपास में ज्यादा ही चर्बी इकट्ठा हो गई है तो उसे हटाने के लिए चक्रासन को अपने दैनिक जीवन में शामिल करें। जब आप Chakrasana करते हैं तो यह आपकी जांघ पर काफी तेजी प्रेशर देता है। इससे मांसपेशियों में खिंचाव पैदा होता है जिसके कारण मांसपेशियां टाइट होती हैं और वहां पर मौजूद चर्बी चली जाती है।

4. चेहरे पर निखार लाए चक्रासन

रोजाना चक्रासन करने से ब्लड सरकुलेशन बॉडी में काफी बढ़िया तरीके से हो जाता है और जब बॉडी में ब्लड सरकुलेशन अच्छा हो जाता है, तो यह चेहरे पर निखार लाने का काम करता है। इसके साथ ही जल्दी हमारे चेहरे पर पिंपल और झाइयां भी नहीं आती हैं। हमारे चेहरे पर Chakrasana करने से एक अलग ही प्रकार का तेज आ जाता है, जो कि आमतौर पर साधु-संतों के चेहरे पर पाया जाता है।

5. पाचन शक्ति स्ट्रांग करे चक्रासन

आपने कई जगह पर यह सुना होगा कि अगर पाचन शक्ति अच्छी है तो पत्थर भी हजम हो जाता है। कहने का मतलब यह है कि पाचन शक्ति बढ़िया होने पर खाने का पाचन सही से होता है और सभी रस आपकी बॉडी के सभी अंगों को मिलते हैं, जिससे उनका विकास होता है। यह लाभ आप चक्रासन करके पा सकते हैं।

ये भी पढ़ें : सूर्य नमस्कार क्या होता है? सूर्य नमस्कार कैसे करते है? जानिए सूर्य नमस्कार के फायदे और नुकसान

 6. फेफड़ा स्वस्थ करें Chakrasana

Chakrasana करने का एक फायदा यह भी है कि आपकी जो छाती वाला इलाका है और जो फेफड़े वाला हिस्सा है, वहां पर काफी तेज प्रेशर आता है और वहां पर स्ट्रैचिंग होती है, जिससे फेफड़े बढ़िया ढंग से काम करते हैं।

7. बालों को मजबूत करें चक्रासन

अगर आप चक्रासन की पोजीशन पर ध्यान देंगे तो इसमें आपके बाल जमीन की साइड होते हैं। इससे फायदा यह होता है कि ब्लड सरकुलेशन आपके दिमाग में बालों की जड़ों तक चला जाता है। यही वजह है कि, Chakrasana करने के फायदे में बालों का स्ट्रांग होना भी शामिल है।

8. पेट की प्रॉब्लम दूर करें चक्रासन

कब्ज, एसिडिटी, गैस, अपच यह यह सभी समस्याएं हमारे पेट से ही जुड़ी हुई हैं, जिन्हें दूर करने के लिए लोग पता नहीं कौन-कौन से चूर्ण खाते हैं या फिर टेबलेट का इस्तेमाल करते हैं, परंतु अगर वह इन सब की जगह पर चक्रासन रोज करते हैं, तो कुछ ही दिनों में उन्हें इन समस्याओं से निजात मिल जाएगी।

ये भी पढ़ें : योग (Yoga) क्या होता है? योग कैसे किया जाता है?

9. टेंशन दूर करे चक्रासन

ज्यादा टेंशन लेना हमारे स्वास्थ्य के लिए घातक साबित हो सकता है। इसलिए चिंता को दूर करने के लिए सुबह उठकर के Chakrasana अवश्य करें। यह मानसिक शांति आपको देता है।

चक्रासन कब करना चाहिए

देखिए हर व्यक्ति के पास समय की काफी कमी वर्तमान में हो गई है। अगर हम यह कह कि चक्रासन करने के लिए आपको सुबह के समय का निर्धारण करना चाहिए, तो आप यह कहेंगे कि सुबह के समय में तो हमारे पास टाइम ही नहीं होता है। इसलिए हमारी सलाह के अनुसार आपको जब टाइम मिले, तब Chakrasana कर लेना चाहिए परंतु योगशास्त्र की नजरों से देखा जाए तो सुबह का समय इसके लिए बढ़िया माना जाता है।

चक्रासन कब नहीं करना चाहिए?

सुबह का समय चक्रासन करने के लिए उत्तम माना जाता है। इसके पीछे कारण यह है कि सुबह के समय में आपका पेट खाली होता है और Chakrasana को करने के लिए खाली पेट ही बढ़िया रहता है। अगर आप खाना खाने के बाद इसे करने के बारे में सोचते हैं तो आपको ऐसा नहीं करना चाहिए, वरना आपको उल्टी आ सकती है और अगर आपने खाना खा लिया है तो उसके 3 घंटे बाद ही इसे करें। इसके अलावा पेट दर्द, दस्त, बुखार, रीड की हड्डी की कमजोरी से संबंधित जो भी बीमारियां हैं, वैसी बीमारी में भी आपको इसे नहीं करना चाहिए।

ये भी पढ़ें : सर्वांगासन क्या है? सर्वांगासन कैसे किया जाता है? सर्वांगासन के फायदे और नुकसान 

चक्रासन के पहले और बाद कौन सा आसन करें?

नीचे आपको चक्रासन के पहले कौन सा आसन करना चाहिए और Chakrasana के बाद कौन सा आसन करना चाहिए,इसकी जानकारी दी गई है।

चक्रासन के पहले

  • वज्रासन
  • बालासन
  • सेतुबंधासन
  • हलासन
  • भुजंगासन

चक्रासन के बाद में

  • बालासन 
  • सर्वांगासन
  • हलासन
  • शवासन

चक्रासन किसे नहीं करना चाहिए?

  • ह्रदय की बीमारी वाले लोगों को
  • हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों को
  • हर्निया की समस्या वाले लोगों को
  • साइटिका की बीमारी वाले लोगों को
  • प्रेग्नेंट महिलाओं को
  • रीड की हड्डी की प्रॉब्लम वाले लोगों को
  • गले की हड्डी की प्रॉब्लम वाले लोगों को
  • जिन लोगों को पंजे में या फिर पैरों में चोट लगी है
  • जिन लोगों को पहले से ही कमर में तेज दर्द है

चक्रासन से संबंधित ध्यान रखने योग्य बातें

  • चक्रासन करने के लिए ऐसी जगह का निर्धारण करें जहां की जमीन समतल हो।
  • इस आसन को आपको ऐसी जगह पर करना चाहिए, जहां पर शांत वातावरण हो।
  • आसन करने के दरमियान आपको ध्यान भटकाने वाली चीजों को दूर रखना चाहिए।
  • सुबह के समय में ही इस आसन को आपको करने का प्रयास करना चाहिए।
  • अगर सुबह के समय में टाइम नहीं है तो आप अपनी आवश्यकता के अनुसार इसे कभी भी कर सकते हैं।
  • इस आसन को आपको खाली पेट ही करना चाहिए। अगर आवश्यक हो तो 1 गिलास हल्का गुनगुना पानी पी ले।
  • Chakrasana करने से पहले जो आसन हैं उन्हें आपको अवश्य करना चाहिए।
  • चक्रासन करने के बाद जो आसन किए जाते हैं उन्हें भी आपको करना चाहिए।
  • Chakrasana पूरा होने के बाद कम से कम आधे घंटे बैठकर आराम करें।
  • आराम करने के बाद संतरा, मौसंबी के फल का जूस पिए और उसके बाद जो खाना खाना चाहते हैं वह खाए।
  • आसन करने के लिए जमीन पर चटाई अवश्य बिछा दे।
  • आसन करने के लिए ऐसे कपड़े पहने जो ढीले हो ताकि आपको तंगी का सामना ना करना पड़े।

चक्रासन से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

चक्रासन कैसे किया जाता है?

पीठ के बल लेटकर

चक्रासन कैसे करें?

पीठ के बल लेट जाएं और अपनी बॉडी को पहिए का आकार दें।

क्या Chakrasana करने से पहले पानी पी सकते हैं?

जी हां परंतु 1 गिलास हल्का गर्म पानी

चक्रासन करने के बाद क्या करें?

कम से कम आधे घंटे लेट कर आराम करें।

Chakrasana करने से चेहरे का निखार क्यों बढ़ता है?

ब्लड सरकुलेशन अच्छा होने के कारण

चक्रासन करने पर बाल मजबूत क्यो बनते हैं?

बालो तक खून की सही मात्रा पहुंचने के कारण

निष्कर्ष

आज के इस लेख में आपने जाना की चक्रासन क्या होता है? और चक्रासन के फायदे और नुकसान? (Benefits of Chakrasana in Hindi) इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद भी अगर आपके मन में Chakrasana ke fayde को लेकर कोई सवाल उठ रहा है तो आप नीचे Comment करके पूछ सकते हैं। हमारी विशेषज्ञ टीम आपके सभी सवालों का जवाब देगी।

अगर आपको लगता है कि इस लेख में कोई गलती है तो आप नीचे Comment करके हमसे बात कर सकते हैं, हम उसे तुरंत सुधारने की कोशिश करेंगे। अगर आपको हमारे द्वारा chakrasana benefits in hindi पर दी गई जानकारी पसंद आई है और आपको इस लेख से कुछ नया सीखने को मिलता है, तो इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर शेयर करें। आप इस लेख का पोस्ट लिंक ब्राउजर से कॉपी कर सोशल मीडिया पर भी साझा कर सकते हैं।

Leave a Comment