Cinnamon क्या होता है? दालचीनी के फायदे, नुकसान और उपयोग क्या हैं? जानिए Dalchini Ke Fayde aur Nuksan से जुड़ी सभी जानकारी हिन्दी में

आज हम जानेंगे दालचीनी के फायदे और नुकसान क्या है पूरी जानकारी (Cinnamon in Hindi) के बारे में क्योंकि अगर हम यह कहे कि भारतीय रसोई में एक ऐसा मसाला पाया जाता है, जो मसाला होने के साथ ही साथ औषधि भी है तो शायद ही आप हमारी बात पर विश्वास करेंगे परंतु वास्तव में ऐसा है। हम जिसके बारे में बात कर रहे हैं उसे Cinnamon कहा जाता है और हिंदी में अगर इसका अर्थ निकाला जाए तो इसका अर्थ दालचीनी होता है।

दालचीनी नाम सुनते ही अब आपके माइंड में थोड़ा-थोड़ा यह ख्याल आ ही गया होगा कि आखिर दालचीनी किस प्रकार से हमारी सेहत के लिए फायदेमंद होती है। मसाले के तौर पर तो इसका इस्तेमाल होता ही है, साथ ही विभिन्न बीमारियों की रोकथाम के लिए भी दालचीनी यानी कि Cinnamon यूज किया जाता है । आज के इस लेख में जानेंगे कि Cinnamon Kya Hai, दालचीनी के फायदे, दालचीनी के नुकसान, Cinnamon in Hindi, Cinnamon meaning in Hindi, आदि की जानकारीयां पूरा डिटेल्स में जानने को मिलेगा, इसलिये इस लेख को सुरू से अंत तक जरूर पढे़ं।

दालचीनी क्या होता है? – What is Cinnamon in Hindi?

Cinnamon In Hindi
Cinnamon In Hindi

ऊपर आपने यह जान लिया है कि दालचीनी मसाले की कैटेगरी में आता है परंतु यह मसाले से भी कहीं बढ़कर है। दालचीनी को अंग्रेजी भाषा में Cinnamon कहकर बुलाया जाता है। अगर आपने कभी इसकी पत्तियों को सूंघा होगा तो आपको उसमें से काफी तेज सुगंध आई होगी। दालचीनी का इस्तेमाल अलग-अलग प्रकार के एसेंशियल ऑयल को बनाने के लिए भी किया जाता है।

Cinnamon का जो पेड़ होता है उसकी छाल हल्की-हल्की पीली रंग की दिखाई देती है। इसके अलावा इसकी छाल मोटी ना होकर के पतली होती है। इस प्रकार आप दालचीनी के पेड़ की पहचान कर सकते हैं। यह एक बहुत ही बढ़िया मसाला होता है और इसीलिए अन्य मसालों के साथ ही साथ इंडियन रसोई में इस मसाले को भी इस्तेमाल किया जाता है।

सिनेमोन का मतलब क्या है? – Cinnamon meaning in Hindi

दालचीनी एक मसाला है, यह तो स्पष्ट तौर पर आप जानते ही हैं परंतु क्या आप जानते हैं कि दालचीनी का वानस्पतिक नेम/ साइंटिफिक नाम क्या है? अगर नहीं जानते तो जान ले की इसे cinnamomum verum का वनस्पतिक नाम प्राप्त है। दालचीनी खड़ा भी आता है और इसे पीस करके आप इसे पाउडर का रूप भी दे सकते हैं।

ये भी पढ़ें : Bay Leaf क्या होता है? तेजपत्ता के फायदे और नुकसान?

मुख्य तौर पर इसका इस्तेमाल भूख बढ़ाने के लिए होता है परंतु इसका इस्तेमाल सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं है। इसके कई अन्य फायदे और इस्तेमाल भी हैं जो आर्टिकल में आप आगे जानेंगे।

दालचीनी का इतिहास क्या है? – History of Cinnamon in Hindi

अगर हिस्ट्री के नजरिए से देखा जाए तो श्रीलंका ही वह देश है, जहां पर सबसे पहले Cinnamon का इस्तेमाल प्रारंभ हुआ होगा, ऐसा माना जाता है। बता दें कि श्रीलंका में आइसलैंड नाम का एक द्वीप स्थित है और इसी द्वीप पर एक लॉरेल नाम का पेड़ भी पाया जाता है और इसी पेड़ की छाल को निकाल कर के उसे पीसा जाता था और फिर पीसने के बाद इसे खाने में मसाले के तौर पर मिलाया जाता था।

भारतीय आयुर्वेदिक ग्रंथों में इसका जिक्र काफी बड़े पैमाने पर किया गया है। हालांकि दालचीनी तो इसे हिंदी में कहते हैं परंतु इसका संस्कृत में नाम अलग होता है। इसलिए अगर आप आयुर्वेदिक ग्रंथों में इसे ढूंढेंगे तो आपको इसके संस्कृत नाम से इसे ढूंढना पड़ेगा।

ये भी पढ़ें : ड्रमस्टिक क्या होता है? जानिए Drumstick (सहजन) के फायदे, नुकसान, प्रकार, उपयोग

इसके अलावा इतिहास से यह जानकारी भी सामने निकल कर के आती है कि यरूशलम में जो भी ईस मंदिर स्थित होते हैं, उनमें लोग भगवान को खुश करने के लिए दालचीनी भगवान के चरणों में समर्पित करते थे। इजिप्ट जैसे देश में भी पुराने समय में मम्मी को दफनाते टाइम दालचीनी उनकी बॉडी पर लगाई जाती थी ताकि किसी भी प्रकार की गंदी Smell बाहर ना फैले।

दालचीनी के प्रकार – Cinnamon Types in Hindi

1. रेगुलर सिनेमोन : जो Regular Cinnamon यानी कि दालचीनी होती है यह हल्के कत्थई रंग की दिखाई देती है। कभी-कभी यह गाढे कत्थई रंग की भी होती है। यही वह दालचीनी होती है जिसे हम अपने घरों में खाना के अंदर डालते हैं।

2. सीलोन : इस प्रकार की दालचीनी का इस्तेमाल खाने की जगह पर कुछ स्पेशल वस्तुओं को तैयार करने में होता है, वही कुछ ऐसी दवाई भी होती है जिसके अंदर इस प्रकार की दालचीनी को मिलाया जाता है। हम जो दालचीनी अपने घर में खाने के लिए यूज करते हैं उस Cinnamon की तुलना में इस दालचीनी का दाम ज्यादा होता है।

दालचीनी के फायदे – Cinnamon Benefits in Hindi

Cinnamon के एक ही नहीं बल्कि कई अलग-अलग फायदे हैं। ऐसे में आपको Cinnamon के फायदे के बारे में जान लेना चाहिए क्योंकि क्या पता कब आपको कुछ ऐसी समस्या हो जाए, जिससे निजात पाने के लिए आपको Cinnamon का इस्तेमाल करना पड़ जाए।

1. पाचन से संबंधित समस्या में दालचीनी के फायदे

सीने में जलन, पेट में होने वाले दर्द और अपच की समस्या से जो भी व्यक्ति परेशान हैं, वह Cinnamon का इस्तेमाल करके इन सभी समस्या को सिर्फ 20 मिनट के अंदर ही छूमंतर कर सकते हैं। इसके लिए आपको Cinnamon के साथ कुछ अन्य वस्तुओं का इस्तेमाल करना होगा।

जैसे कि पेट की समस्या से संबंधित परेशानियों को दूर करने के लिए आप काली मिर्च और Cinnamon का सेवन एक साथ कर सकते हैं। यह पेट की समस्या को दूर करती है, साथ ही उल्टी की समस्या से भी आपको निजात दिलाती है। गैस की समस्या से आराम पाने के लिए आप Cinnamon के पाउडर का काढ़ा बनाकर के पी सकते हैं।

2. ब्लड शुगर और डायबिटीज में Cinnamon के Benefits

दालचीनी के अंदर डायबिटीज की समस्या को बढ़ाने वाले कारणों को रोकने की क्षमता होती है। दालचीनी को यह क्षमता इसके अंदर मौजूद anti-diabetic गुण के कारण प्राप्त होती है। इसीलिए अगर डायबिटीज की समस्या से परेशान लोग इसका सेवन करते हैं तो उन्हें आराम मिलेगा।

ये भी पढ़ें : कॉर्नफ्लोर क्या होता है? कॉर्न फ्लोर के फायदे और नुकसान

एक रिसर्च में यह बात भी सामने निकल कर के आई है कि डायबिटीज इसीलिए दालचीनी का सेवन करने से कम होता है, क्योंकि दालचीनी में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो इंसुलिन को घटाते हैं।

3. कैंसर में दालचीनी के फायदे

एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी इन्फ्लेमेटरी, एपोप्टोसिस-इंडयूसिंग जैसे शानदार तत्व इसमें पाए जाते हैं और यह सभी तत्व उन कोशिकाओं पर हमला करके उसे नष्ट करते हैं जो कैंसर को बढ़ाने का काम करती है। इस प्रकार जब कैंसर को बढ़ाने वाली कोशिकाओं पर हमला होता है तो वह कोशिकाएं या तो नष्ट हो जाती है या फिर उनका प्रभाव काफी कम हो जाता है, तो इस प्रकार से आपने यह जाना कि कैंसर के रोगियों को भी दालचीनी अपने भोजन में दैनिक तौर पर शामिल करनी चाहिए।

4. मेंटल हेल्थ Cinnamon के Benefits

अगर आपको दिमाग से संबंधित कुछ नॉर्मल समस्याएं हैं तो उन समस्याओं को दूर करने के लिए दालचीनी आप अपने भोजन में शामिल कर सकते हैं। आपको बता दें कि, न्यूरो इम्यूनो फार्मोकोलॉजी जर्नल ने Cinnamon पर एक रिसर्च की थी और अपनी खोज को करने के बाद उन्होंने यह बात बताई थी कि दालचीनी का लिमिटेड मात्रा में रोजाना इस्तेमाल करने से यह हमारे दिमाग की सोचने की शक्ति को बढ़ाता है और दिमाग के सोचने की शक्ति बढ़ने से याददाश्त भी हमारी स्ट्रांग हो जाती है।

5. स्किन हेल्थ में दालचीनी के फायदे

स्किन की एलर्जी का इलाज करने के लिए आप दालचीनी का सेवन कर सकते हैं, क्योंकि इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाया जाता है जो स्किन की एलर्जी को दूर करता है। अगर आपको अपने चेहरे पर पिंपल हो गया है, तो दालचीनी भी आप पिंपल को दूर करने के लिए ट्राई कर सकते हैं।

इसके लिए आपको दालचीनी के पाउडर में हल्का सा ग्लिसरीन मिलाना है और इस पेस्ट को आपको अपने पिंपल वाली जगह पर रोजाना 10 मिनट तक लगाना है और फिर धो देना है। एक ही महीने में आपको अच्छे रिजल्ट इस उपाय के मिलेंगे।

दालचीनी के नुकसान – Cinnamon Side Effects in Hindi

जहां Cinnamon यानी कि दालचीनी के कुछ बेनिफिट है तो इसके कुछ ना कुछ डिसएडवांटेज भी है। ऐसे में आपको फायदे जानने के साथ ही साथ इसके नुकसान के बारे में भी जानना चाहिए।

  • दालचीनी की तासीर के कारण कभी-कभी कुछ लोगों में दांतो से संबंधित समस्याएं देखी जाती हैं। जैसे कि इसका अधिक सेवन करने से उनके दातों में प्लाक की प्रॉब्लम आ सकती है।
  • एक तय लिमिट में ही इसका सेवन करने से आपको पेट से संबंधित समस्याओं से छुटकारा मिलता है। ज्यादा इसका इस्तेमाल करने पर आपको पेट से संबंधित एक समस्या हो सकती है जिसे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कहा जाता है।
  • कई लोगों को दालचीनी से एलर्जी होती है। अगर आपको भी ऐसा है तो इसे आपको बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • हालांकि यह आवश्यक तो नहीं है परंतु कुछ लोगों में दालचीनी का सेवन करने से ग्लूकोज के लेवल की कमी पाई गई है। ऐसा होने पर उनका मन काम करने में नहीं लगता है क्योंकि उनकी बॉडी में एनर्जी ही नहीं होती है। आपको भी इसका इस्तेमाल करने पर कुछ ऐसा ही महसूस होता है तो इसका इस्तेमाल स्टॉप कर दें।

दालचीनी का उपयोग – Uses of Dalchini in Hindi

दालचीनी का उपयोग निम्नलिखित है।

  • अगर किसी ने आपको दालचीनी का इस्तेमाल करने की सलाह दी है तो आप दूध में दालचीनी के पाउडर को मिलाकर के इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • मसाले के तौर पर इसका यूज होता है यह तो सभी जानते हैं।
  • पेट की समस्या को दूर करने के लिए आप इसके पाउडर को हल्के गुनगुने पानी के साथ ले सकते हैं।
  • चेहरे पर ब्राइटनेस बढ़ाने के लिए आप दालचीनी, शहद और ग्लिसरीन का पेस्ट बना सकते हैं और इसे अपने चेहरे पर लगा सकते हैं।
  • सर्दी जुखाम दूर करने के लिए काली मिर्च और तेज पत्ते के साथ आप दालचीनी को मिला सकते हैं और इसका काढ़ा बनाकर के पी सकते हैं।
  • बालों को धोने के लिए आप थोड़े से पानी में दालचीनी के पाउडर को डालें और इसे उबालें, उसके बाद ठंडा होने पर इसे अपने बालों को धोने के लिए इस्तेमाल करें।
  • विभिन्न आयुर्वेदिक कंपनियां चमनपरास बनाते समय उसमें अन्य चीजों के साथ दालचीनी को भी डालती हैं।

दालचीनी की तासीर कैसी होती है?

दालचीनी की तासीर गर्म होने के कारण दालचीनी का सेवन अधिकतर तब किया जाता है जब ठंडी का मौसम आता है क्योंकि ठंडी के मौसम में अधिकतर लोगों को सर्दी जुकाम जैसी समस्या हो जाती है। ऐसे में उसे दूर करने के लिए दालचीनी को काढे के तौर पर अन्य चीजों के साथ इस्तेमाल किया जाता है।

दालचीनी के पेड़ की पहचान कैसे करे?

दालचीनी का जो पेड़ होता है उसे सबसे पहले पौधे के रूप में जमीन में लगाया जाता है और जब यह बड़ा हो जाता है तब इसकी पत्तियां तुलसी के पौधे से थोड़ी सी बड़ी होती है और इसके तने में ही जो लकड़ी की तरह चीज दिखाई देती है वही दालचीनी होती है। इसी को काटकर के पीसा जाता है। दालचीनी का पेड़ उतना ही बड़ा होता है जितना कि तुलसी का एक स्वस्थ पौधा होता है अर्थात 2 से 3 फीट।

दालचीनी का दाम

देखिए Cinnamon का दाम हर ब्रांड का अलग अलग होता है। इंडिया में मुख्य तौर पर पतंजलि, डाबर, हिमालया जैसी कंपनियां दालचीनी को पैक करके मार्केट में बेचती हैं। इसके अलावा भी कई लोकल और नेशनल लेवल की कंपनी है, जो इसे बेचने का काम करती हैं और सभी कंपनियां अलग-अलग दाम दालचीनी का रखती हैं फिर भी सामान्य नजरिए से देखा जाए तो आपको तकरीबन 1 किलो दालचीनी का पाउडर ₹100 से लेकर के ₹250 के बीच में प्राप्त हो सकता है।

दालचीनी यानि Cinnamon के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Cinnamon का साइंटिफिक नाम क्या है?

cinnamomum verum

ज्यादा दालचीनी खाने से क्या होता है?

आपको इसके साइड इफेक्ट हो सकते हैं।

दालचीनी का पेड़ कितना बड़ा होता है?

2 से 3 फीट

दालचीनी की तासीर कैसी होती है?

गर्म

दालचीनी को हिंदी में क्या बोलते हैं?

दालचीनी को हिंदी में दालचीनी ही बोलते हैं, वही अंग्रेजी में इसे Cinnamon कहा जाता है।

निष्कर्ष

आज के इस लेख में आपने जाना की दालचीनी क्या होता है? और दालचीनी के फायदे और नुकसान? (Cinnamon in Hindi) इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद भी अगर आपके मन में Dalchini Ke Fayde aur Nuksan को लेकर कोई सवाल उठ रहा है तो आप नीचे Comment करके पूछ सकते हैं। हमारी विशेषज्ञ टीम आपके सभी सवालों का जवाब देगी।

अगर आपको लगता है कि इस लेख में कोई गलती है तो आप नीचे Comment करके हमसे बात कर सकते हैं, हम उसे तुरंत सुधारने की कोशिश करेंगे। अगर आपको हमारे द्वारा Cinnamon in Hindi पर दी गई जानकारी पसंद आई है और आपको इस लेख से कुछ नया सीखने को मिलता है, तो इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर शेयर करें। आप इस लेख का पोस्ट लिंक ब्राउजर से कॉपी कर सोशल मीडिया पर भी साझा कर सकते हैं।

Leave a Comment