कस्टम अधिकारी (Custom Officer) क्या होता है और कैसे बने?

अगर आप भी अपने देश के हित में कस्टम अधिकारी के रूप में जिम्मेदारियों को निभाना चाहते है और एक सरकारी ऑफिसर बनना चाहते है तो जो अभ्यार्थी कस्टम्स विभाग में एक अच्छा भविष्य देख रहे है। Custom Officer के बेस पर इस डिपार्टमेंट में लगभग हर वर्ष भर्ती निकली जाती है। लेकिन आपको इसके बारे में जानना भी बेहद ज़रूरी है।

जैसे, कस्टम अधिकारी क्या है, कस्टम ऑफिसर कैसे बने (Custom Officer Kaise Bane), कस्टम ऑफिसर बनने के लिए योग्यता क्या है, कस्टम ऑफिसर बनने के लिए क्या करे, चयन प्रक्रिया, कस्टम अधिकारी के कार्य, आयु सीमा, कस्टम ऑफिसर की तैयारी कैसे करे और सैलरी आदि के बारे में विस्तार से बतायंगे।

लेकिन हर भारतीय युवा का सपना होता है की वो भी एक सरकारी पद कस्टम ऑफिसर के रूप में हासिल कर सके पर कुछ अभ्यर्थी को पता ही नहीं होता है आखिर इस विभाग में सफ़लता कैसे प्राप्त करे।

कई युवा सालों तैयारी करते है फिर भी उन्हें सफ़लता हाथ नहीं लगती जबकि कुछ युवा साथी अपनी तैयारी इतने स्मार्ट तरीके से करते है कि उन्हें पहली बार में ही सफलता मिल जाती है। यदि आप भी इस विभाग में कस्टम ऑफिसर बनना चाहते है तो आर्टिकल को शुरु से अंत तक ज़रूर पढ़ें।

कस्टम अधिकारी क्या होता है?

हमारे देश में होने वाले माल के आयात और निर्यात पर एक तरह का कर वसूलना होता है जो कस्टम्स अधिकारी के रूप में ड्यूटी, कार्य करते है इनका उद्देश्य आयात- निर्यात को नियंत्रित करना तथा निषिद्ध और प्रतिबंधित वस्तुओं के प्रवेश की जाँच को नियंत्रत करना भी इसका कार्य होता है।

भारत में इसका गठन अधिनियम के तहत 1962 को लागू किया गया था जोकि एक तरह का कर होता है यह विभाग भारत सरकार के अधीन कार्यरत होते है। कस्टम विभाग के रूप में पद अधिकारीयों पर बहुत महत्वपूर्ण जिम्मेदारी को निभाना होता है।

आपके लिए बता दें, कस्टम ऑफिसर किसी भी तरह का अवैध तस्करी या स्मगलिंग नहीं किया जाए तो इनका पद ज़िम्मेदारी भरा होता है। यदि देखा जाए तो Custom Officer कार्य प्रतिबंधित चीजों की जाँच करना व अवैध वस्तुओं पर रोक लगाना होता है।

कस्टम ऑफिसर कैसे बने?

अगर आप भी एक कस्टम ऑफिसर बनना की चाहत रखते है तो आपको सिविल सर्विसेज एग्जाम से गुजरना होता है। जो भारत सरकार के अंतर्गत संघ लोक सेवा आयोग द्वारा परीक्षाओं का आयोजन कराया जाता है। लेकिन इस विभाग में भी कई तरह के पद होते है। जो अभ्यार्थी कस्टम अधिकारी के रूप में सरकारी पद हासिल करना चाहते है तो इनके बनू ज़रूर है की पढ़ाई के प्री एक अच्छा रिपंत्र्ण करना होता जैसे किसी भी अपना कार्य करना होता है।

अगर कोई भी अभ्यार्थी एक सरकारी पद के रूप में कस्टम अधिकारी बनना चाहता है तो उनके लिए ज़रूरी है कि आखिर इस विभाग में यह पद प्राप्त करने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए यदि आपको नहीं पता तो नीचे बता रहे है। तो आइये जानते है।

वैसे तो Custom Officer के रूप में जॉब अलग-अलग पदों पर होती है जैसे, Custom Inspector, Tax Assistant, Assistant Commissioner, Preventive Officer, Custom Clearance, Case Processing, Commercial Executive, Import Officer के आधार पर पद होते है।

अगर आप कस्टम अधिकारी के रूप में हमारे द्वारा बताए गए भिन्न पदों के लिए आवेदन कर सकते है लेकिन कस्टम ऑफिसर बनने के लिए इन पोस्ट के लिए अलग-अलग योग्यता होती है। तो आइये नीचे जानते है।

कस्टम ऑफिसर बनने के लिए योग्यता

अभ्यार्थीयों को कस्टम अधिकारी बनने के लिए जो योग्यता निर्धारित की गई है उन्हें पूरा करना बेहद ज़रूरी होता है। जिनके बारे में जानकारी होना भी जरुरी होता है। जो इस तरह है।

आपको कस्टम ऑफिसर बनने के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी और किसी भी स्ट्रीम में 55% अंकों के साथ बैचलर डिग्री पास होना अनिवार्य होता है साथ ही, भारतीय नागरिक होना चाहिए क्योंकि हर कस्टम अधिकारी जो भारत सरकार के तहत कार्य करता है। साथ ही, उम्मीदवार शारीरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ होना चाहिए।

  • सामान्य वर्ग अभ्यार्थी के लिए न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष से लेकर 28 वर्ष के मध्य होनी चाहिए।
  • जबकि ओबीसी श्रेणी के लिए 3 साल की छूट और एससी/एसटी के लिए 5 साल की छूट नियमनुसार दी जाती है।

नोट:- कस्टम अधिकारी बनने के लिए शारीरिक योग्यता Height-157.5 Cm तथा Chest-81 Cm होनी आवश्यक है।

कस्टम ऑफिसर बनने के लिए क्या करे

अब हर अभ्यार्थी के मन में ये सवाल ज़रूर आ रहा होगा कि आखिर कस्टम अधिकारी बनने के लिए परीक्षा क्या होती है मगर कस्टम ऑफिसर बनने के लिए आपको 2 Step में एग्जाम देना होता है। जिन्हें नीचे बता रहे है। जो इस तरह…

  1. प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)
  2. मुख्य परीक्षा (Mains Exam)

प्रारंभिक: सिविल सर्विस Aptitude Test के रूप में दो Paper होते है प्रत्येक पेपर में 200 अंक के ऑब्जेक्टिव प्रकार प्रश्न पूछे जाते है। इस परीक्षा में आपसे सामान्य ज्ञान, करंट अफेयर्स, नेशनल, इंटरनेशनल, भारत इतिहास, भूगोल, आर्थिक, सामाजिक विकास, रीजनिंग, मैथ्स और अंग्रेजी आदि से संबंधित प्रश्न पूछे जाते है।

मुख्य परीक्षा: यदि आपने सिविल सर्विस Aptitude Exam पास कर लिया है तो आपको मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है। इस Civil Service परीक्षा के आधार पर 9 पेपर होते है। यह सभी पेपर वर्णनात्मक या डिस्क्रप प्रकार के आधार पर होते है।

अब आपको कस्टम अधिकारी के बेस में अच्छी तरह मेहनत करनी होती है। तभी इस एग्जाम को पास कर पाते है। यह पेपर उम्मीदवारों को बौद्धिक क्षमताओं, ज्ञान आदि पर आधारित होते है।

Interview: अगर आप दोनों लिखित परीक्षाओं को पास कर लेते है तो उसके बाद आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है जिसमे आपसे बुद्धि, क्षमताओं, गुणों, मूल्यों से संबंधित व्यक्तित्व के रुपमे आंकलन किया जाता है।

यदि हमारे द्वारा बताए गए चरणों को आप पास कर लेते है तो कस्टम ऑफिसर के आधार पर केंद्र सरकार द्वारा चुन लिए जाते है। जो आपके लिए गर्व की बात होती है क्योंकि भारतीय सरकार के अंतर्गत कस्टम के रूप में एक जिम्मेदारी वाली पोस्ट हासिल कर सकते है।

कस्टम ऑफिसर की तैयारी कैसे करे

अगर आप भी कस्टम अधिकारी बनना चाहते है तो इसके लिए हम आपको आसान भाषा में कुछ टिप्स बताने वाले है जिन्हें जानकर इसकी तैयारी करने पर सफलता प्राप्त हो सकती है। तो चलिए जानते है। जो इस प्रकार है।

  • सबसे पहले इस विभाग से संबंधित सभी जानकारी होनी बेहद जरुरी होती है। साथ ही, समयानुसार जानकारी होनी चाहिए।
  • आपको कस्टम ऑफिसर के आधार पर सभी पुराने प्रश्न पत्र को पढ़ते रहना चाहिए जिससे इसके बारे में ज्ञान हो सके।
  • कस्टम ऑफिसर बनने के लिए अभ्यार्थी को सिलेबस के बेस पर पढ़ाई करनी चाहिए ताकि तैयारी अच्छे से हो सके।
  • आपको साथ ही, आपको करंट अफेयर्स, जनरल नॉलेज आदि से संबंधित पूरी जानकारी होनी बहुत जरुरी होती है।
  • आप चाहे तो साक्षात्कार के लिए अलग से भी तैयारी कर सकते है जिससे आपकी नॉलेज बढ़ती है। जो आपके लिए एक अच्छा संकेत होता है।
  • यदि आप चाहे तो कस्टम विभाग से संबंधित जानकारी इंटरनेट पर भी सर्च कर सकते है जिससे आपको एक अच्छी सुविधा प्राप्त होती है।
  • किसी भी अभ्यार्थी को कस्टम एग्जाम की तैयारी करने के लिए समय सारणी के अनुसार पढ़ना चाहिए।

यदि आप हमारे द्वारा बताई गई कुछ टिप्स के बेस पर पढ़ाई करते है तो आपको कस्टम अधिकारी बनने में सफलता हासिल कर सकते है।

कस्टम ऑफिसर के कार्य

आपके लिए बता दें कि, कस्टम अधिकारी को इस विभाग में सीमा शुल्क और उत्पाद ऑफिसर भी कहां जाता है। क्योंकि यह एयरपोर्ट्स, बंदरगाहों आदि महत्वपूर्ण स्थानों पर कार्यरत होते है तथा संभावित एवं अपराधिक क्षत्रों मे तलाशी करना होता है।

किसी भी तस्करी वाले सामान और व्यक्तियों को तलाश करना साथ ही, संदेह वाले लोगों को गिरफ्तार करना व किसी भी महत्वपूर्ण सामान से संबंधित दस्तावेज की जाँच करना होता है।

कस्टम अधिकारी के रूप में ड्रग, अवैध आयात- निर्यात कामों पर रोक लगाना तथा प्रतिबंधित कामों पर रोक लगाना व जानवरों, पक्षियों की विलुप्त प्रजातियों के अनुसार अवैध आदि कामों को रोकना कस्टम अधिकारियों की ज़िम्मेदारी होती है।

कस्टम ऑफिसर की सैलरी

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कस्टम ऑफिसर के रूप में कई पद होते है और इन पदों के लिए वेतन भी अलग-अलग होता है लेकिन इस विभाग में जो अभ्यार्थी कोई भी पद हासिल कर लेता है तो उसके लिए बहुत सम्मानजनक सैलरी मिलती है।

फिर भी एक कस्टम पद पर कार्यरत अधिकारी को 25,000 रुपए से लेकर 42,000 रुपए महीने वेतनमान मिलता है। जो एक अच्छा वेतन माना जाता है इसके अलावा, सरकार द्वारा अन्य लाभ भी दिए जाते है।

निष्कर्ष,

तो दोस्तों, इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको Custom Officer के बारे में बताया। जैसे कि, कस्टम ऑफिसर क्या है और कैसे बने, कस्टम ऑफिसर बनने की योग्यता, चयन प्रक्रिया, कस्टम अधिकारी के कार्य, आयु सीमा, कस्टम ऑफिसर बनने के लिए क्या करे, कस्टम की तैयारी कैसे करे साथ ही, कस्टम अधिकारी की सैलरी कितनी होती है आदि के बारे में बताया।

हम उम्मीद करते है यह आर्टिकल अंत तक पढ़ने के बाद आपको कस्टम अधिकारी कैसे बनते है? के बारे में पूरी जानकारी हो गयी होगी। इसके अलावा, यदि अभी भी आपके मन में इससे संबंधित कोई सवाल या सुझाव है तो हमें कमेंट में बता सकते है।

Leave a Comment