IFS Officer क्या है और कैसे बने? योग्यता और सैलरी

अपने देश और दुसरे देश के बीच में एक अच्छा संबंध बनाए रखने के लिए हर देश का विदेश में एक दूतावास होता है जो दूतावास अपने देश के आधार पर विदेश में कार्य करते है। ऐसे ही हमारे देश में जिसे भारतीय विदेश सेवा के रूप में जाना जाता है और सॉर्ट में आईएफएस ऑफिसर (IFS Officer) कहते है जोकि एक सरकारी कर्मचारी होता है।

लेकिन आपको IFS Officer बनने के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए जैसे कि, आईएफएस ऑफिसर क्या है और कैसे बने? आईएफएस ऑफिसर बनने की योग्यता क्या होती है, आईएफएस आयु सीमा, चयन प्रक्रिया और आईएफएस ऑफिसर सैलरी आदि के बारे में पुरे विस्तार से बताएंगे। लेकिन इस आर्टिकल को शुरु से अंत तक ज़रूर पढ़ें। अगर आप भी देश सेवा के रूप में आईएफएस ऑफिसर बनना चाहते है तो आप अपना भविष्य का सपना पूरा कर सकते है। परंतु इसके लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होती है तभी आप एक सरकारी अधिकारी यानि आईएफएस ऑफिसर बने सकते है। तो चलिए जानते है।

What is IFS Officer in Hindi]

IFS का मतलब होता है Indian Foreign Service यानि भारतीय विदेश सेवा जिन्हें इस विभाग में कार्यरत लोगों को आईएफएस कहां जाता है। यह आईएफएस ऑफिसर के रूप में केंद्र सरकार के तहत आते है क्योंकि इसकी नियुक्ति केंद्र सरकार के ज़िम्मे होती है। जो देश या विदेश से हो रहे आयात-निर्यात तथा अन्य संबंधों को भी अच्छा बनाए रखने का कार्य करता है।

आईएफएस ऑफिसर हर देश के लिए ज़रूरी होता है जो दुसरे देशों को अपने देश का प्रतिनिधित्व करता है इनका काम अपने देश और विदेश के बीच अच्छा संबंध बनाए रखना होता है यदि देखा जाए तो यह हमारे देश के ज़रूरी कामों को करते है। जोकि हर देश के लिए बहुत जरुरी होता है। यह देश के आईएफएस दूतावास के आधार पर महत्वपूर्ण कार्यों को हल करते है।

अब आपने आईएफएस क्या होता है का मतलब तो जान लिया होगा लेकिन आगे जान लेते है कि आईएफएस ऑफिसर कैसे बने के बारे में तो आइये जानते है। 

आईएफएस ऑफिसर कैसे बने?

अब कुछ लोगों के मन में सवाल उठ रहा होगा कि, भारतीय विदेश सेवा यानि इंडियन फॉरेन सर्विस के रूप में जॉब कैसे हासिल करें तो इसके बारे में हम आपको महत्वपूर्ण जानकारी देने वाले है तो आइये जानते हैं।

अगर आप भी Indian Foreign Service यानि आईएफएस अधिकारी बनना चाहते है जो अभ्यार्थी IFS Officer की नौकरी पाना चाहता है उन्हें अपनी योग्यताओं को पूरा करना होता है। इसके लिए वे किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से कोई भी सब्जेक्ट में अच्छे Marks के साथ ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करनी होती है उसके बाद ही आप आईएफएस की तैयारी करे सकते है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें, ग्रेजुएशन करने के बाद आप आईएफएस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते है। लेकिन आवेदन करने के बाद आपको मेहनत बहुत अच्छे से करनी होगी क्योंकि इसका एग्जाम यूपीएससी के द्वारा आयोजित कराया जाता है और इन परीक्षाओं को हर वर्ष UPSC के आधार पर कराया जाता है।

लेकिन कुछ अभ्यार्थीयों को नहीं पता होता की आखिर Indian Foreign service Eligibility क्या होती है तो आईएफएस बनने के लिए योग्यता के रूप में हम आपको नीचे बता रहे है जिसके बारे में जानना आपके लिए बहुत ज़रूरी होता है। तो आइये जानते है।

IFS बनने के लिए योग्यता;

यदि जो अभ्यार्थी भारतीय विदेश सेवा (Indian Foreign Service) के रूप में अपने देश की सेवा प्रदान करने का जूनून रखता है तो उनको हम आईएफएस IFS बनने की योग्यता के बारे में बता रहे है। तो चलिए जान लेते है जो इस तरह…

  • किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी तथा किसी भी विषय से ग्रेजुएशन पास डिग्री होनी अनिवार्य होती है
  • IFS Officer बनने के लिए सामान्य श्रेणी के लिए न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष और अधिकतम 32 वर्ष होना चाहिए।
  • जबकि IFS बनने पर OBC श्रेणी के लिए 3 साल की छूट, SC/ST श्रेणी के लिए 5 साल की छूट मिलती है
  • परंतु आईएफएस ऑफिसर बनने के लिए भारतीय नागरिक होना भी ज़रूरी है।

यदि हमारे द्वारा बताई गई योग्यता आपके पास है तो आप आईएफएस ऑफिसर बनने के लिए आवेदन कर सकते है जिसके लिए केंद्र सरकार के आधार पर लगभग हर वर्ष भर्ती की जाती है।

आईएफएस बनने के लिए क्या करे?

अगर आप आईएफएस ऑफिसर बनने के लिए योग्य है तो आपको लिखित परीक्षा के रूप में दो चरणों से गुजरना होता है उसके बाद आपका इंटरव्यू भी होता है। लेकिन जानते है सभी के बारे में विस्तार से जो इस तरह है।

  1. प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)
  2. मुख्य परीक्षा (Mains Exam)
  3. साक्षात्कार (Interview)

प्रारंभिक परीक्षा: आपको आईएफएस ऑफिसर बनने के लिए सबसे पहले प्रारंभिक परीक्षा यानि Preliminary Exam होता है जिसमे दो प्रश्न पत्र पूछे जाते है। इस परीक्षा आपसे सामान्य ज्ञान, इतिहास, भूगोल व भारतीय विदेश नीति, भारतीय संस्कृति, भारतीय अर्थव्यवस्था, टेक्नोलॉजी, करंट अफेयर्स आदि से संबंधित प्रश्न पूछे जाते है।

मगर इसके दूसरे पेपर में आपसे इंग्लिश रीजनिंग से संबंधित विषयों में से प्रश्न पूछे जाते है लेकिन मुख्य परीक्षा में बैठने के लिए आपको इस परीक्षा में कम से कम 40% Marks लाने होते है। तभी आप मुख्य परीक्षा में शामिल हो सकते है।

मुख्य परीक्षा: अभ्यार्थी प्रारंभिक परीक्षा को पास कर लेता है तो उसको मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है जिसमे मुख्य एग्जाम के रूप आपसे हर एक प्रश्न पत्र अलग-अलग विषयों पर होते है जैसे, सामान्य स्टडीज, इंग्लिश, हिंदी, से आधारित प्रश्न पूछे जाते है परंतु एक प्रश्न पत्र में आपसे निबंध भी पूछे जा सकते है।

अगर आप इन दोनों लिखित परीक्षा में पास हो जाते है तो उन अभ्यार्थीयों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है तो आइये जानते है।

Interview: इंटरव्यू के लिए उन उम्मीदवारों को बुलाया जाता है जो प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा को पास कर लेते है लेकिन आईएफएस का इंटरव्यू UPSC के द्वारा लिया जाता है जो परीक्षा का अंतिम स्टेप होता है। यदि आप साक्षात्कार में भी पास हो जाते है तो आपको IFS Officer के रूप में चुन लिया जाता है।

लेकिन आपको ये भी बता दें कि, जो उम्मीदवार आईएफएस ऑफिसर बनने के लिए प्रारंभिक परीक्षा के रूप फॉर्म भरते है तो उसके अनुसार ही पोस्ट सर्विस तथा रैंक दी जाती है।

अभी तक आपने जाना आईएफएस चयन प्रक्रिया के बारे में मगर अब आपको बताने वाले है कि भारतीय विदेश सेवा के रूप में आईएफएस के लिए आवेदन कैसे करे” तो आइये जानते है।

IFS Officer के लिए आवेदन कैसे करे?

अगर आप भी IFS बनने का ख़्वाब देख रहे है तो आपके लिए यह भी जानना बेहद ज़रूरी की आखिर इसके लिए आवेदन प्रक्रिया स्टेप्स के आधार पर IFS Exam Form के लिए आपको UPSC की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होता है।

इस आईएफएस परीक्षा के फॉर्म को भरना होता है इस विभाग में हर वर्ष यूपीएससी द्वारा भर्ती आयोजन कराई जाती है। यदि आप इस डिपार्टमेंट में फॉर्म भरने के लिए योग्य है तो इसमें Apply कर सकते है।

IFS Officer की सैलरी कितनी होती है?

हर व्यक्ति के लिए कोई भी जॉब उसकी सैलरी बेहद महत्व रखती है क्योंकि हर व्यक्ति किसी भी विभाग में एक अच्छा वेतन हासिल करना चाहता है तो इसलिए हम आज बात करेंगे कि एक आईएफएस ऑफिसर सैलरी के बारे में तो जानते है।

आईएफएस के रूप में सरकार द्वारा अच्छा वेतन प्रदान किया जाता है यानि एक आईएफएस की सैलरी 15600 रुपए से लेकर 40000 रुपए होती है साथ ही, हर महीने ग्रेड पे के रूप में भी 5400 रुपए मिलते है।

मगर जो आईएफएस ऑफिसर यानि दूतावास के रूप में विदेश कार्यरत है उन्हें केंद्र सरकार द्वारा अधिक वेतनमान प्राप्त होता है। यदि देखा जाए तो इस विभाग में बहुत ही अच्छी सैलरी मिलती है जो एक सम्मानजनक के बेस पर होती है।

आईएफएस की तैयारी कैसे करे?

आपके लिए बता दें, जो लोग इंडियन फॉरेन सर्विस यानि भारतीय विदेश सेवा की तैयारी कर रहे है तो उन्हें आईएफएस सिलेबस अनुसार तैयारी करनी चाहिए ताकि आपको अच्छी तरह समझ आ सके। तो आइये जानते है।

  • आईएफएस एग्जाम की तैयारी करने से पहले पूरा सिलेबस तथा पुराना पेपर्स देख कर थोड़ा रिसर्च करे।
  • परीक्षा की तैयारी करने के लिए टाइम टेबल सेट करे व एनालिसिस अनुसार पढ़ाई करे।
  • पॉइंट्स बनाकर पढ़े साथ ही, आसान चैप्टर्स को पहले तैयार करे।
  • पढ़ाई के बीच ज्यादा ब्रेक न लें और अगर बोर हो जाते है तो ग्रुप स्टडी के अनुसार भी पढ़ सकते है।
  • यदि आप चाहे तो कोचिंग भी कर सकते है भारत में ऐसी कई संस्था है।
  • मुख्य बिंदुओं को हाईलाइट करने की आदत बनाएं और नोट्स बनाकर भी पढ़ सकते है।
  • अगर आप कोचिंग के बेस पर पढ़ाई कर रहे है तो नियमित अंतराल में टेस्ट देते रहें।

आपको आईएफएस की तैयारी एक लक्ष्य एवं टारगेट अनुसार करनी होती है क्योंकि सफ़लता एक दिन में नहीं मिलती है लेकिन एक-एक दिन मेहनत और प्रयास करने से ज़रूर मिल जाती है।

निष्कर्ष,

तो साथियों, इस आर्टिकल में हमने आपको IFS Officer के बारे में बताया। जैसे, आईएफएस क्या और कैसे बने? आईएफएस नौकरी कैसे पाए, आईएफएस बनने के लिए क्या करे, आईएफएस बनने के लिए योग्यता, आयु सीमा, चयन प्रक्रिया, आवेदन कैसे करे, साथ ही, आईएफएस ऑफिसर सैलरी आदि के बारे में विस्तार से बताया।

अगर आपको आईएफएस क्या और कैसे बने? की जानकारी अच्छी लगे तो सोशल मिडिया पर ज़रूर शेयर करें ताकि कोई और भी इसके बारे में जान सके। धन्यवाद!!

Leave a Comment