Prunes या Plum Fruit क्या होता है? आलूबुखारा के फायदे, उपयोग, प्रकार और नुकसान? जानिए Aloo Bukhara Ke Fayde aur Nuksan से जुड़ी सभी जानकारी हिन्दी में

आज हम जानेंगे आलूबुखारा के फायदे और नुकसान क्या है पूरी जानकारी (Prunes or Plum Fruit in Hindi) के बारे में क्योंकि फलों की बात की जाए तो फल खाने में बहुत ही टेस्टी लगते हैं। इसीलिए अधिकतर लोग अलग-अलग फल खाते ही हैं। इंडिया में फलों की कई वैरायटी मिलती है। इसलिए कुछ लोग केला खाना पसंद करते हैं तो बहुत से लोग चीकू खाना भी पसंद करते हैं। मीठे फल के अलावा खट्टे फल भी भारतीय बाजारों में आसानी से मिल जाते हैं।

बात करें अगर आलूबुखारा की तो इसकी गिनती भी टेस्टी फलों में की जाती है। Plum Fruit यानी की आलूबुखारा टेस्टी तो होता ही है, साथ ही यह विभिन्न प्रकार से हम इंसानों की सेहत को भी अच्छा बनाने का काम करता है। आज के इस लेख में जानेंगे कि Aloo Bukhara Kya Hai, आलूबुखारा के फायदे Plum Fruit in Hindi, आलूबुखारा के नुकसान, Plum meaning in Hindi, आदि की जानकारीयां पूरा डिटेल्स में जानने को मिलेगा, इसलिये इस लेख को सुरू से अंत तक जरूर पढे़ं।

आलूबुखारा क्या होता है? – What is Prunes or Plum Fruit in Hindi

Plum Fruit Aloo Bukhara In Hindi
Plum Fruit Aloo Bukhara in Hindi

Plum Fruit यानि आलूबुखारा का टेस्ट ना तो मीठा होता है ना ही खट्टा होता है बल्कि यह इन दोनों का कॉन्बिनेशन होता है अर्थात जब आप Plum Fruit मार्केट से खरीद करके खाते हैं तो आपको इसका स्वाद खट्टा और मीठा दोनों लगता है और यही वजह है कि दोनों ही प्रकार के टेस्ट को लेने के लिए लोग इसे खाते हैं।

अगर इसकी साइज के बारे में बात करें तो जितनी साइज एक पके हुए टमाटर की होती है, उतनी ही साइज Plum Fruit की भी होती है। यह भारतीय बाजारों में बिकने के लिए अप्रैल के आखिरी दिनो मे आ जाता है और यह अक्टूबर के आखिरी दिनों तक भारतीय बाजारो में दिखाई देता है। Plum Fruit की कई प्रकार की किस्मे है, जिसमें मुख्य तौर पर लाल प्लम, पीला प्लम, काला प्लम मुख्य किस्मे होती हैं और यही मार्केट में मिलती है।

प्लम फ्रूट का हिंदी में क्या मतलब है? – Prunes or Plum meaning in Hindi

Plum Fruit यानी की आलूबुखारा जब हम खाते हैं तो इसके ऊपर का हिस्सा ही हम खा पाते हैं क्योंकि इसके अंदर गुठली होती है अर्थात इसकी गिनती गुठली वाले फलों की कैटेगरी में होती है। यह आपको भारतीय बाजारों में या तो बैगनी कलर में प्राप्त होता है या फिर लाल कलर में मिल जाता है।

आलूबुखारा के प्रकार – Types/Varieties of Plum in Hindi

  • विक्टोरिया
  • सेन्टारोजा
  • फर्स्ट प्लम
  • रामगढ़ मेनार्ड
  • न्यू प्लम
  • ग्रीन गेज
  • ट्रान्समपेरेन्ट गेज
  • स्टैनले
  • प्रसिडेन्ट
  • फंटीयर
  • रैड ब्यूट
  • टैरूल

आलूबुखारा के उपयोग – Uses of Aloo Bukhara in Hindi

बात करें अगर Plum Fruit को इस्तेमाल में लेने की तो इसे इस्तेमाल में लेने के कई तरीके हैं जिसके बारे में नीचे आपको बताया जा रहा है।

  • सलाद, ओटमील, दही यह कुछ ऐसी चीजें हैं जिसमें आलूबुखारा को मिक्स करके आप खाने के लिए इस्तेमाल में ले सकते हैं।
  • अगर आपको कभी चटनी खाने का मन होता है तो आप इस की चटनी भी बना करके तैयार कर सकते हैं जो खाने में स्वादिष्ट लगती है।
  • आलू बुखारा का जूस पीना भी सेहत के लिए फायदेमंद होता है। इसलिए बस आपको इसे मिक्सर में पीस लेना है और इसे पी जाना है।
  • आप चाहें तो इसे खड़ा खड़ा भी खा सकते हैं। इसे आपको छीलने की भी आवश्यकता नहीं है।
  • सुबह में नाश्ता के तौर पर इसे अन्य चीजों के साथ भी आप ले सकते हैं।
  • आइसक्रीम बनाने के लिए भी आलूबुखारा उसके अंदर आप डाल सकते हैं।

आलूबुखारा के अन्य नाम क्या है? – Name of Aloo Bukhara in Different Languages

क्र.म.भाषाएंअन्य नाम
1हिंदी मेंआलूबुखारा
2अंग्रेजी मेंगार्डन प्लम, प्रून प्लम, प्लम ट्री, यूरोपियन प्लम
3संस्कृत मेंआल्लूक, अल्लू, रक्तफल, भल्लूक
4कन्नड़ मेंअलबोखाला
5गुजराती मेंपीच,आलूबुखारा
6तमिल मेंअलुप्पुक्काराप्लम
7तेलुगु मेंअलपागोडापाण्डु
8बंगाली मेंआलूबुखारा
9नेपाली मेंआरु बखाड़ा
10मलयालम मेंअरुकम्
11अरेबिक मेंबरकफक
12पर्शियन मेंशफतालू

आलूबुखारा के फायदे – Benefits of Plums in Hindi

नीचे हम आपको आलूबुखारा खाने के जो फायदे बता रहे हैं, ऐसा नहीं है कि इसके सिर्फ इतना ही फायदे हैं। इसके अन्य कई फायदे भी हैं परंतु मुख्य तौर पर आलूबुखारा खाने से आपको जो जो बेनिफिट मिलते हैं, उसकी जानकारी नीचे आपको दी जा रही है।

1. कब्ज दूर करने में आलूबुखारा के फायदे

ऐसे लोग जो काफी लंबे समय से कब्ज की समस्या से परेशान हैं और अपने कब्ज की समस्या से निजात पाना चाहते हैं, उन्हें आलूबुखारा को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में अवश्य रोजाना खाना चाहिए, क्योंकि इसके अंदर फाइबर होता है जो कब्ज का काल माना जाता है।

ये भी पढ़ें : Black Raisins क्या होता है? काली किशमिश के फायदे, उपयोग, और नुकसान?

फाइबर ही वह चीज है जो कब्ज को दूर करने के लिए विभिन्न प्रकार से हमें खानी होती है। फाइबर आपकी कब्ज की समस्या को दूर करता है और आपके पाचन तंत्र को ठीक करता है।

2. डायबिटीज में Plums Benefits in Hindi

क्या आप जानते हैं कि डायबिटीज की समस्या से अगर आप निजात पाना चाहते हैं तो आपको आलूबुखारे को खाना चाहिए। हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि आलूबुखारा में एक बायो एक्टिव कंपाउंड उपलब्ध होता है।

यह कंपाउंड अपनी शक्ति और अपने गुणों से डायबिटीज की समस्या को घटाता है। आलू बुखारे की एक और खास बात यह है कि स्वाद में यह खट्टा मीठा होता है। इसीलिए यह आपकी बॉडी में ब्लड शुगर लेवल को मेंटेन करके रखता है।

3. हड्डियों के लिए आलूबुखारा के फायदे

कैल्शियम की कमी के कारण इंसानों की हड्डियां तो कमजोर होती ही है, साथ ही जब उनकी उम्र ज्यादा हो जाती है तब भी हड्डियों में कमजोरी आ जाती है। आलू बुखारा हड्डियों की कमजोरी को दूर करने के लिए आप ट्राई कर सकते हैं, क्योंकि इसके अंदर बोन मिनिरल डेंसिटी को सही करने के गुण होते हैं।

ये भी पढ़ें : Flaxseed क्या होता है? अलसी के फायदे, प्रकार, उपयोग, और नुकसान?

4. मोटापा कम करने में Plums Benefits in Hindi

क्या आप जानते हैं कि भले ही आलूबुखारा खाने में स्वादिष्ट लगता है परंतु कैलरी की जब बात आती है तो यहां पर यह पीछे हो जाता है। कम कैलरी की वजह से आलूबुखारा उनके लिए वरदान साबित होता है जो मोटे हैं और अपने वजन को कम करना चाहते हैं। फाइबर की भी अच्छी मात्रा इसमें होती है। इस प्रकार से वजन घटाने के लिए आपको इसे एक ना एक बार अवश्य ट्राई करना चाहिए।

5. इम्यूनिटी बढ़ाने में आलूबुखारा के फायदे

अगर हमारी बॉडी में रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है तो इससे हमें कई बीमारियां आसानी से अपनी गिरफ्त में ले लेती है। इसीलिए इसे मजबूत करने के लिए विटामिन सी से भरपूर आपको आलूबुखारे का सेवन करना चाहिए। यह हमारी बॉडी में जाकर के कोशिकाओं को रिपेयर करने का काम करता है।

आलूबुखारा के नुकसान क्या है? – Side Effects of Aloo Bukhara in Hindi

क्या आप जानते हैं कि आलूबुखारे के अंदर लैक्सेटिव मौजूद होता है। यह वही चीज है जो हमारे पेट में कब्ज जैसी समस्या को खत्म करने के लिए बहुत ही कारगर माना जाता है। हालांकि अगर अधिक मात्रा में आप आलूबुखारे को खाते हैं तो यह डायरिया भी आपके पेट में उत्पन्न कर सकता है।

कोई व्यक्ति अगर Plum Fruit का सेवन ज्यादा करता है तो ऐसा करने से एसिडिटी और पेट में गैस बनने की समस्या भी उसकी बॉडी में पैदा हो सकती है।

हमारी बॉडी में जब पोटेशियम की मात्रा ज्यादा होती है तो इससे सांस की समस्या और उल्टी की समस्या हमें होने लगती है। यह जो पोटेशियम तत्व है, यह आलूबुखारे में अच्छी मात्रा में होता है।

रोजाना कितना आलूबुखारा खाना चाहिए? – How Many Prunes/Plums can you Eat Per Day in Hindi

अगर डॉक्टर ने किसी पेशेंट को किसी समस्या के लिए Plum Fruit का सेवन करने के लिए कहा है तो उसे डॉक्टर ने जिस प्रकार से बताया है उसी प्रकार से आलूबुखारे को खाना चाहिए। अगर आप सामान्य तौर पर इसे खाने के बारे में सोच रहे हैं तो आपको सुबह में नाश्ते के टाइम में 4 से 5 Plum Fruit खाना चाहिए और आपको शाम के टाइम में 4 से 5 आलू बुखारे का सेवन करना चाहिए।

ये भी पढ़ें : Almond क्या होता है? बादाम के फायदे और नुकसान?

आलूबुखारा का सेवन कैसे करना चाहिए? – How to Use Aloo Bukhara in Hindi

Plum Fruit एक ऐसा फल है, जिसे लोग अपने अपने तरीके से खाते हैं। अगर आप इसे खाने के बारे में सोच रहे हैं तो आप इसे खड़ा-खड़ा भी खा सकते हैं या फिर इसे सलाद के तौर पर भी खा सकते हैं। इसके अलावा इसका जूस भी पिया जा सकता है, वहीं चटनी भी इसकी काफी अच्छी बनती है। आप चाहे तो इसके अंदर मिलने वाले बीज को पीसकर के उसके पाउडर का सेवन भी कर सकते हैं।

आलूबुखारा कहां पाया जाता है? – Where is Aloo Bukhara Found or Grown?

इंडिया में अधिकतर Plum Fruit यानी कि आलूबुखारा पहाड़ी इलाकों में पैदा किया जाता है। हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड,आसाम, अरुणाचल प्रदेश, यह कुछ ऐसे इलाके हैं जहां पर किसानों के द्वारा भारी मात्रा में Plum Fruit की खेती की जाती है। पहाड़ी इलाकों में इसकी खेती जमीन से तकरीबन 1500 से लेकर के 2100 मीटर की ऊंचाई पर की जाती है। इंडिया के अलावा यूरोप और पश्चिमी अमेरिका ऐसे देश है, जहां पर इसकी पैदावार होती है।

ये भी पढ़ें : Peach Fruit क्या होता है? आड़ू के फायदे, नुकसान और उपयोग क्या हैं?

आलूबुखारा के पौष्टिक तत्व – Aloo Bukhara Nutritional Value

नीचे आपको 100 ग्राम आलूबुखारा में कौन-कौन से तत्व होते हैं, यह बताया जा रहा है।

पानी87.23
ऊर्जा46kcal
प्रोटीन0.70g
कुल फैट0.28g
कार्बोहाइड्रेट11.42g
फाइबर1.4g
शुगर9.92g
कैल्शियम6mg
आयरन0.17mg
मैग्नीशियम7mg
फास्फोरस, पी16mg
पोटैशियम, के157mg
जिंक0.10mg
विटामिन सी9.5mg
थायमिन0.028mg
राइबोफ्लेविन0.026mg
नियासिन0.417 mg
विटामिन बी-60.026mg
फोलेट, डीएफई5 µg
विटामिन ए, RAE17µg
विटामिन ए, IU345IU
विटामिन ई, (अल्फा-टोकोफेरॉल)0.26mg
विटामिन के (फाइलोक्विनोन)6.4µg
फैटी एसिड, सैचुरेटेड0.017g
फैटी एसिड, कुल मोनोअनसैचुरेटेड0.134g
फैटी एसिड, कुल पॉलीअनसैचुरेटेड0.044g

आलूबुखारा के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

आलूबुखारा के उपयोगी भाग कौन-कौन से हैं?

बीज, फल, पत्तियां

आलूबुखारा में प्रोटीन की मात्रा कितनी होती है

0. 70 ग्राम

आलूबुखारा की तासीर कैसी होती है?

ठंडी

आलूबुखारा का साइंटिफिक नाम क्या है?

Prunus bokharensis

आलू बुखारा का स्वाद कैसा होता है?

खट्टा मीठा

क्या प्रेगनेंसी में आलू बुखारा खाया जा सकता है?

जी हां प्रेगनेंसी में महिलाएं आलूबुखारा खा सकती हैं, क्योंकि इसके अंदर आयरन की अच्छी मात्रा होती है जो महिलाओं को ताकत देता है और उनकी बॉडी में खून की कमी नहीं होने देता है।

निष्कर्ष

आज के इस लेख में आपने जाना की आलूबुखारा क्या होता है? और आलूबुखारा के फायदे और नुकसान? (Plum Fruit in Hindi) इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद भी अगर आपके मन में Plum Fruit Ke Fayde aur Nuksan को लेकर कोई सवाल उठ रहा है तो आप नीचे Comment करके पूछ सकते हैं। हमारी विशेषज्ञ टीम आपके सभी सवालों का जवाब देगी।

अगर आपको लगता है कि इस लेख में कोई गलती है तो आप नीचे Comment करके हमसे बात कर सकते हैं, हम उसे तुरंत सुधारने की कोशिश करेंगे। अगर आपको हमारे द्वारा Aloo Bukhara in Hindi पर दी गई जानकारी पसंद आई है और आपको इस लेख से कुछ नया सीखने को मिलता है, तो इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर शेयर करें। आप इस लेख का पोस्ट लिंक ब्राउजर से कॉपी कर सोशल मीडिया पर भी साझा कर सकते हैं।

Leave a Comment