रागी क्या होता है? रागी के फायदे, उपयोग, गुण और नुकसान क्या है? जानिए Ragi Ke Fayde aur Nuksan से जुड़ी सभी जानकारी हिन्दी में

आज हम जानेंगे रागी के फायदे और नुकसान क्या है पूरी जानकारी (Ragi in Hindi) के बारे में क्योंकि हर इंसान को दैनिक तौर पर खाना खाना आवश्यक होता ही है, क्योंकि खाना खाने पर ही उसका पाचन हमारी बॉडी में सही से होता है और खाने में उपलब्ध सभी पोषक तत्व हमारी बॉडी को लगते हैं। मुख्य तौर पर तो हम एनर्जी पाने के लिए खाना खाते हैं परंतु खाना सिर्फ एनर्जी देने के लिए ही नहीं होता है बल्कि इससे हमें पौष्टिक तत्व मिलते हैं जिससे हमारी बॉडी का पूरा विकास होता है।

अनाज और साग सब्जी यह दोनों ऐसी चीजें हैं जो हमारे शरीर को ताकतवर बनाती हैं। अनाज की बात आती है तो रागी को हम कैसे भूल सकते हैं। रागी के कई हेल्थ बेनिफिट है। इसीलिए इसे भोजन में अवश्य शामिल किया जाना चाहिए। आज के इस लेख में जानेंगे कि Ragi Kya Hai, रागी के फायदे, Ragi in Hindi, रागी के नुकसान, Ragi meaning in Hindi, आदि की जानकारीयां पूरा डिटेल्स में जानने को मिलेगा, इसलिये इस लेख को सुरू से अंत तक जरूर पढे़ं।

रागी क्या होता है? – What is the Ragi in Hindi

Ragi In Hindi
Ragi In Hindi

रागी की बात करें तो यह अनाज की कैटेगरी में आता है और अंग्रेजी लैंग्वेज में इसे Finger Millet कहकर बुलाया जाता है। इस प्रकार अगर आप से कोई यह पूछे कि रागी को अंग्रेजी में क्या कहते हैं तो आप उसका जवाब Finger Millet कह सकते हैं। जिस प्रकार हर अनाज का वैज्ञानिक नाम होता है उसी प्रकार रागी का वैज्ञानिक नाम एलुसीन कोरकाना है।

अफ्रीका एक ऐसा देश है जहां पर भारी पैमाने पर किसानों के द्वारा Ragi की पैदावार की जाती है। इसके अलावा हमारे इंडिया में भी इसकी गिनती एक प्रमुख अनाज के तौर पर होती है और इंडिया के कई राज्यों जैसे कि केरल, तमिलनाडु, असम, बंगाल, उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, पंजाब मे भी रागी को उगाया जाता है।

Ragi को पूरे भारत में अलग-अलग जगह पर अलग-अलग नामों से जाना जाता है। हिंदी भाषा में इसे मंडुवा और रागी कहा जाता है। उसके अलावा तेलुगू लैंग्वेज में इसे केझवारगु कहकर बुलाया जाता है, वही कन्नड़ भाषा में इसे रागी ही कहा जाता है। इसमें विभिन्न प्रकार के पोषक तत्व जैसे कि प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, पोटेशियम उपलब्ध होता है, साथ ही अन्य कई महत्वपूर्ण तत्व भी पाए जाते हैं।

रागी की फसल कैसी होती है?

रागी को इसके अलावा सामान्य तौर पर मंडुवा नाम से भी जाना जाता है। जब मंडुवा की फसल तैयार हो जाती है तो इसकी अधिक से अधिक ऊंचाई 1 से लेकर के 2 मीटर के आसपास तक होती है और जब इस पर फल लगना चालू होते हैं तो वह फल गोल गोल दिखाई देते हैं। कभी-कभी फल गोल की जगह चपटे भी दिखाई देते हैं। रागी फसल के जो बीज होते हैं वह थोड़े से ब्राउन रंग के होते हैं और उनका आकार भी गोल गोल होता है।

रागी का उपयोग – Uses of Ragi in Hindi

रागी क्या है और किस प्रकार से Ragi हमारे लिए बेनिफिशियल है, आपने इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर ली है। ऐसी अवस्था में आपके मन में यह क्वेश्चन अवश्य आ रहा होगा कि रागी के यूज़ क्या है अथवा रागी का इस्तेमाल कैसे किया जा सकता है, तो इसकी इंफॉर्मेशन आपको नीचे दी गई है।

  • रागी दोसा खाएं
  • रागी की रोटी खाएं
  • रागी के आटे के पराठे बनाएं
  • रागी से इटली बनाकर खाएं
  • रागी की चटनी खाएं
  • रागी का फेस मास्क बनाएं

रागी के अन्य नाम क्या है? – Name of Ragi in Different Languages

इंडिया में कई राज्य है, जहां की बोली भाषा अलग है और हर बोली में रागी को अलग-अलग नाम दिया गया है।

क्र.म.भाषाएंअन्य नाम
1हिंदी मेंमंडुआ, नाचनी, रागी
2अंग्रेजी मेंइण्डियन मिलेट, फिंगर मिलेट
3तमिल में केलवारागू
4राजस्थानी मेंरागी
5गुजराती मेंनावतोनागली
6अरबी मेंतैलाबौन
7संस्कृत मेंनृत्यकुण्डल
8तेलुगु मेंरागुलु
9पंजाबी मेंचालोडरा
10मराठी मेंनचीरी
11मलयालम मेंमुत्तरि

रागी के औषधीय गुण क्या है? – Health Benefits of Ragi in Hindi

रागी यानी की Finger Millet की गिनती मोटे अनाज के तौर पर होती है। यह हमारी स्किन को हेल्दी बनाने का काम करती है। इसके लिए आपको रागी के आटे में हल्दी और गुलाब जल मिलाकर अपने चेहरे पर उबटन की तरह लगाना चाहिए। कमजोर हड्डियों को भी यह मजबूती प्रदान करती है, क्योंकि इसमें कैल्शियम होता है। इसके साथ ही फाइबर भी होने के कारण यह पाचन तंत्र को सही करती है। कब्ज की समस्या को दूर करने का काम भी रागी करती है।

रागी से संबंधित महत्वपूर्ण बातें – Important Things About Ragi in Hindi

रागी को लिमिट में ही खाना चाहिए। कोई व्यक्ति अगर ज्यादा मात्रा में Ragi को खाने लगता है तो इससे उसे लीवर से संबंधित प्रॉब्लम हो सकती है।

रागी को आप किसी भी प्रकार से खा सकते हैं। आप इसकी रोटी भी बना करके खा सकते हैं, आप चाहे तो इसका हलवा भी तैयार कर सकते हैं, चाहे तो आप सतुआ के तौर पर भी इसे खा सकते हैं।

इंडिया में मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, केरल,आसाम कर्नाटक जैसे राज्य में काफी भारी मात्रा में रागी की पैदावार होती है, क्योंकि यहां पर पहाड़ी क्षेत्र अधिक होते हैं और Ragi मुख्य तौर पर पहाड़ी क्षेत्र में पाई जाती है।

कुछ सूत्रों के अनुसार हमारे भारत देश में सबसे पहली बार राखी का आगमन 4000 साल पहले हुआ था हालांकि यह कौन से राज्य में हुआ था इसके बारे में कोई इंफॉर्मेशन नहीं है।

बाजार में मिलने वाले विभिन्न प्रकार के 20 किलो का निर्माण करने में कंपनियों के द्वारा Ragi के आटे को यूज में लिया जाता है।

खून की कमी होने पर व्यक्ति को एनीमिया रोग होता है और बता दें कि एनीमिया को खत्म करने में रागी आपकी सहायता कर सकता है। इसे खाने से एनीमिया बीमारी धीरे-धीरे खत्म होती है।

उत्तर प्रदेश जैसे राज्य में Ragi को कई इलाकों में मंडुवा कहकर भी संबोधित किया जाता है।

रागी के फायदे – Benefits of Ragi in Hindi

ऊपर आपने यह जाना कि रागी की फसल कैसी दिखाई देती है और रागी का मतलब क्या होता है तथा रागी को अंग्रेजी भाषा में क्या कहकर बुलाया जाता है। आइए नीचे आपको यह भी बताते हैं कि रागी यानी की Finger Millet के फायदे कौन-कौन से हैं।

1. वजन घटाने में रागी के फायदे

रागी में ट्रिप्टोफैन नाम का एक अमीनो एसिड उपलब्ध होता है। यह अमीनो एसिड व्यक्ति के वजन को घटाने का काम करता है। इसके फंक्शन की बात करें तो जब कोई व्यक्ति रागी का सेवन करता है तो इसी अमीनो एसिड के कारण उसे भूख कम लगने लगती है और कम भूख लगने के कारण वजन कम करने के लिए रागी अच्छी मानी जाती हैं।

ये भी पढ़ें : Almond क्या होता है? बादाम के फायदे और नुकसान

इसके अलावा यह भी पाया गया है कि इसमें हाई फाइबर मौजूद होता है जो ऐसे लोगों के लिए बेनिफिशियल है जो मोटापे का शिकार है क्योंकि यह उनके मोटापे को भी धीरे-धीरे कम करता है परंतु इसका फायदा तभी व्यक्ति को मिलता है जब वह इसे खाने के साथ ही साथ अच्छी कसरत भी करता है।

2. कोलेस्ट्रॉल कम करने में रागी के फायदे

हमारी बॉडी को सही प्रकार से काम करने के लिए एक लिमिट में कोलेस्ट्रॉल की आवश्यकता होती है। अगर कोलेस्ट्रॉल हमारी बॉडी में लिमिट में रहता है तब तो ठीक होता है परंतु जब यह ज्यादा बढ़ जाता है तो हमें कई प्रकार की समस्याएं होने लगती है।

ऐसी अवस्था में रागी का सेवन करके आप अपनी बॉडी में बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल के लेवल को घटा सकते हैं। रागी के अंदर फायटिक एसिड भी मौजूद होता है और इसके अंदर डाइटरी फाइबर भी पाया जाता है। यह दोनों ही चीजें कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए रामबाण उपाय मानी जाती है।

3. प्रोटीन देता है रागी

जिस प्रकार हमारी बॉडी को कार्बोहाइड्रेट, विटामिन, मिनरल, और फैट की आवश्यकता होती है उसी प्रकार प्रोटीन भी एक ऐसी चीज है जो हमारी बॉडी के लिए जरूरी मानी जाती है। प्रोटीन हमारी मसल्स को डिवेलप करती है और इंसान की बॉडी बनाती है, साथ ही हड्डियों को मजबूती भी प्रदान करती है।

ये भी पढ़ें : Peach Fruit क्या होता है? आड़ू के फायदे, नुकसान और उपयोग क्या हैं?

शाकाहारी लोगों के लिए प्रोटीन पाना थोड़ा सा मुश्किल होता है परंतु बता दें कि रागी के अंदर प्रोटीन की मौजूदगी अच्छी होती है। इसलिए अगर आपको ज्यादा प्रोटीन की आवश्यकता है, तो रागी आपके लिए बढ़िया विकल्प है।

4. हड्डियों को मजबूत बनाने में रागी के फायदे

यह बात तो सभी जानते हैं कि हमारी हड्डियां तभी कमजोर होती है जब उन्मे कैल्शियम की कमी होती है। कैल्शियम की कमी को अगर हम पूरा कर देते हैं तो हमारी हड्डियां स्ट्रांग बन जाती है। हड्डियों को स्ट्रांग बनाने के लिए आपको रागी का सेवन करना चाहिए,

क्योंकि हड्डियों को मजबूत करने के लिए जिस चीज की आवश्यकता होती है, वह इसमें पाया जाता है। हम बात कर रहे हैं कैल्शियम की। कैल्शियम रागी में अच्छी मात्रा में होता है। इसलिए अगर आप इसका सेवन करते हैं तो हड्डियां मजबूत बनती हैं।

5. दिल के लिए रागी के फायदे

मैग्नीशियम और आयरन अगर यह 2 तत्व हमारी बॉडी में ठीक-ठाक मात्रा में होते हैं तो हमारा हृदय सही प्रकार से काम करता है और बता दे कि यह दोनों ही पोषक तत्व आपको रागी के अंदर प्राप्त होते हैं। इस प्रकार से हृदय को स्वस्थ करने के लिए आप रागी को खा सकते हैं। रागी हृदय को स्वस्थ तो बनाता ही है, साथ ही यह ब्लड प्रेशर को भी लिमिट में लाने का काम करता है।

रागी के नुकसान – Side Effects of Ragi in Hindi

हमें हर एक चीज के दोनों पहलू के बारे में भी विचार करना चाहिए। रागी किस प्रकार से फायदेमंद है और इसके फायदे क्या है यह तो आपने जान ही लिया है परंतु इसके नुकसान क्या है इसके बारे में भी आपको जानना चाहिए, तो आइए नीचे आपको बताया जा रहा है कि Ragi के Disadvantages क्या है।

  • रागी में कैल्शियम अच्छी मात्रा में होता है। इसलिए कमजोर हड्डियों वाले लोगों के लिए यह वरदान साबित होता है परंतु बता दें कि कैल्शियम की मात्रा अधिक होने के कारण कई लोगों में रागी के सेवन से पथरी की समस्या देखी गई है।
  • इसके अधिक सेवन से आपको पेट फूलने की समस्या, पेट में गैस बनने की समस्या या फिर पेट में ऐठन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसका कारण यह है कि रागी में फाइबर ज्यादा होता है।

रागी का वैज्ञानिक नाम क्या है? – Scientific Name of Ragi in Hindi

रागी के वनस्पतिक नाम यानी कि साइंटिफिक नाम के बारे में बात करें तो इसे Eleusine coracana कहा जाता है। इंडिया का पड़ोसी देश नेपाल और भारत में हिमालय की जगह ऐसी जगह है, जहां पर रागी की खेती काफी अच्छी होती है, क्योंकि यह ऊंचे पहाड़ों पर पैदा की जाने वाली फसल है। रागी पौष्टिक तत्वो से भरपूर होता है, इसीलिए इसे खाया जाता है।

रागी के पौष्टिक तत्व क्या है? – Nutrients of Ragi (Finger Millet) in Hindi

नीचे आपको 100 ग्राम रागी खाने से कौन से तत्व प्राप्त होते हैं, यह बताया जा रहा है।

प्रोटीन7.7 ग्राम
फैट1.8 ग्राम
फाइबर15-22.0 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट75.0 – 83.3 ग्राम
फास्फोरस130-250.0 मिलीग्राम
पोटेशियम430-490 मिलीग्राम
मैग्नीशियम78-201 मिलीग्राम
कैल्शियम398 मिलीग्राम
सोडियम49 मिलीग्राम
जिंक2.3 मिलीग्राम
आयरन3.3-14.89 मिलीग्राम
मैंगनीज17.61-48.43 मिलीग्राम
कॉपर0.47 मिलीग्राम

क्या रागी वजन घटाने में सहायक है? – Ragi for Weight Loss in Hindi

जब कोई व्यक्ति रागी का सेवन करता है तो इसके अंदर मौजूद ट्रिप्टोफैन नाम के तत्व के कारण उसे भूख कम लगने लगती है क्योंकि यह तत्व उसकी बॉडी में भूख में कमी लाता है और इस प्रकार जब आदमी खाना कम खाता है तो उसे कैलरी भी कम मिलती है जिसके कारण उसका बढा हुआ वजन धीरे-धीरे कम होता है और वह धीरे-धीरे पतला बन जाता है। इस प्रकार से यह कहा जा सकता है कि रागी को वजन घटाने के लिए अपने डाइट में शामिल किया जा सकता है।

रागी के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

100 ग्राम रागी में कितना प्रोटीन मिलता है?

7.7 ग्राम

100 ग्राम रागी में कितना फाइबर होता है?

15 से 22 ग्राम

भारत में सबसे ज्यादा रागी की पैदावार कहां होती है?

कर्नाटक आंध्र प्रदेश उत्तराखंड हिमाचल प्रदेश अरुणाचल प्रदेश तमिलनाडु केरल मध्य प्रदेश

रागी का देसी नाम क्या है?

मंडुवा

रागी क्या भाव है?

यह ₹100 से लेकर ₹200 प्रति किलो मिलती है।

रागी का आटा क्या काम आता है?

रोटी बनाने में

रागी कैसे खाया जाता है?

रागी और गेहूं के आटे को मिलाकर के रोटी बनाकर, रागी का सतुवा बना के

रागी में कितना कैल्शियम होता है?

सौ ग्राम रागी में 344 मिलीग्राम

रागी का आटा कितने रुपए किलो मिलता है?

हर जगह इसका दाम अलग-अलग है।

रागी का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य कौन सा है?

भारत का कर्नाटक राज्य

रागी का दूसरा नाम क्या है?

मंडवा

रागी को अंग्रेजी में क्या कहते हैं?

Finger Millet

निष्कर्ष

आज के इस लेख में आपने जाना की रागी क्या होता है? और रागी के फायदे और नुकसान? (Ragi in Hindi) इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद भी अगर आपके मन में Ragi Ke Fayde aur Nuksan को लेकर कोई सवाल उठ रहा है तो आप नीचे Comment करके पूछ सकते हैं। हमारी विशेषज्ञ टीम आपके सभी सवालों का जवाब देगी।

अगर आपको लगता है कि इस लेख में कोई गलती है तो आप नीचे Comment करके हमसे बात कर सकते हैं, हम उसे तुरंत सुधारने की कोशिश करेंगे। अगर आपको हमारे द्वारा Ragi in Hindi पर दी गई जानकारी पसंद आई है और आपको इस लेख से कुछ नया सीखने को मिलता है, तो इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर शेयर करें। आप इस लेख का पोस्ट लिंक ब्राउजर से कॉपी कर सोशल मीडिया पर भी साझा कर सकते हैं।

Leave a Comment