किशमिश क्या होता है? किशमिश खाने के फायदे, उपयोग, इस्तेमाल और नुकसान क्या है? जानिए Raisins kismis Ke Fayde aur Nuksan से जुड़ी सभी जानकारी हिन्दी में

आज हम जानेंगे किशमिश के फायदे और नुकसान क्या है पूरी जानकारी (Raisins in Hindi) के बारे में क्योंकि जैसे हर इंसान का स्वभाव एक जैसा नहीं होता है, उसी प्रकार हर खाने वाली चीजों के फायदे एक जैसे नहीं होते हैं। इसीलिए जब हमें कोई बीमारी होती है, तो डॉक्टर हमारी बीमारी के हिसाब से ही हमें खाने पीने की सलाह देता है, क्योंकि कुछ चीजें ऐसी होती है, जो कुछ बीमारी में फायदा करती हैं तो कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो कुछ बीमारियों में नुकसान पहुंचाती हैं अथवा एलर्जी देती हैं।

बात करें अगर Raisin के बारे में तो अंग्रेजी नाम होने के कारण बहुत से लोग यह नहीं जान पाते हैं कि आखिर किशमिश होता क्या है। बता दें कि, Raisin किशमिश को ही कहते हैं। आज के इस लेख में जानेंगे कि Raisins Kya Hai, किशमिश के फायदे, Raisins in Hindi, किशमिश के नुकसान, आदि की जानकारीयां पूरा डिटेल्स में जानने को मिलेगा, इसलिये इस लेख को सुरू से अंत तक जरूर पढे़ं।

किशमिश क्या होता है? – What is Raisins in Hindi

Raisins In Hindi
Raisins In Hindi

विटामिन, शुगर, पोटेशियम, मिनिरल, फाइबर जैसी चीजों से भरपूर Raisin के बारे में जब आपने सुना होगा, तभी आपने नेट पर यह सर्च किया होगा कि आखिर Raisin है क्या और आपको जवाब मिला होगा किशमिश! जी हां किशमिश को ही अंग्रेजी भाषा में Raisin कहकर बुलाया जाता है और Raisin को ही हिंदी भाषा में किशमिश कहा जाता है।

Raisin यानी की किशमिश का निर्माण अंगूरों के द्वारा किया जाता है। जो नारंगी किशमिश आप खाते हैं उसे बनाने के लिए हरे वाले अंगूरों को इस्तेमाल में लिया जाता है और काली किशमिश जो आप खाते हैं उसे तैयार करने के लिए काले अंगूरों को सूखाया जाता है और फिर उसके जरिए काली किशमिश यानी की ब्लैक Raisin बनाई जाती है।

किशमिश में पौष्टिक तत्वों की भरमार होती है। इसमें पाए जाने वाले तत्व अलग-अलग प्रकार से हमारे शरीर के अलग-अलग अंगों को फायदा पहुंचाने का काम करते हैं। अश्वगंधा और शतावरी पाउडर के साथ इसका सेवन करने से शरीर को अंदर से मजबूती मिलती है।

किशमिश के प्रकार – Types of Raisin in Hindi

देखा जाए तो मुख्य तौर पर 3 प्रकार की किस्मिश होती हैं, जिन्हें बनाने के लिए हरे या फिर काले अंगूरों का इस्तेमाल किया जाता है। उन तीनों प्रकार की किशमिश के नाम नीचे आपको दिए जा रहे हैं।

  • भूरी किशमिश
  • गोल्डन किशमिश
  • काली किशमिश

किशमिश खाने के फायदे – Benefits of Raisins in Hindi

किसी ने आपको सलाह दी होगी कि वजन बढ़ाने के लिए काली किशमिश को रात में भिगोकर के सुबह उठकर के खाएं। इससे आपका वजन बढ़ेगा और आपने इसे खाना चालू कर दिया होगा और यही वजह है कि शायद अभी तक आप यही जानते होंगे कि इसे खाने से सिर्फ वजन बढ़ता है परंतु मेरे दोस्त यह वजन बढ़ाने के अलावा भी कई फायदे हमारे शरीर को देती है। आइए जानते हैं काली किशमिश खाने के एडवांटेज अथवा काली किशमिश खाने से क्या फायदा होता है।

1. पाचन तंत्र सही करें किशमिश

फाइबर की कमी होने पर हमारा पेट सही से काम नहीं कर पाता है और उसमें गैस, एसिडिटी और कब्ज की प्रॉब्लम पैदा होने लगती है। इन्हीं समस्याओं को खत्म करने के लिए फाइबर वाली चीजें खाने के लिए डॉक्टर हमें कहते हैं। किशमिश की बात करें तो फाइबर की उपलब्धि होने के कारण यह कब्ज और एसिडिटी की समस्या को खत्म करने की ताकत रखता है। इसलिए भोजन में इसे शामिल करना चालू कर दें।

ये भी पढ़ें : टमाटर क्या होता है? टमाटर के फायदे, उपयोग, इस्तेमाल और नुकसान

2. ऑस्टियोपोरोसिस मे लाभकारी है किशमिश

लंबाई ज्यादा होने के लिए हमारी हड्डियों का स्ट्रांग होना आवश्यक है। हड्डियों को स्ट्रांग करने के लिए जिस प्रकार बॉडी को कैल्शियम की आवश्यकता होती है, उसी प्रकार बोरोन नाम के तत्व की भी आवश्यकता होती है। यह बोरोन नाम का तत्व किशमिश में पाया जाता है। इसे खाने पर यह हड्डियों की ग्रोथ में सहायक बनता है जिससे हड्डियां मजबूत बनती है और लंबाई तेजी के साथ बढ़ती है। बोन डेंसिटी को भी ठीक करने में किशमिश में पाया जाने वाला तत्व सहायक साबित होता है।

3. खून बढ़ाए किशमिश

पौष्टिक तत्व ना मिल पाने के कारण बॉडी में खून की कमी हो जाती है और इसे एनीमिया बीमारी कहा जाता है। प्रेगनेंसी की अवस्था में महिलाओं में तो यह समस्या आम बात हो जाती है। इसीलिए चाहे प्रेग्नेंसी की अवस्था हो या फिर सामान्य अवस्था हो। किशमिश खाने पर आप अपनी बॉडी में खून तेजी के साथ बढ़ा सकते हैं, क्योंकि इसमें आयरन उपलब्ध होता है जो खून बढ़ाता है।

4. हाई बीपी कंट्रोल करें किशमिश

फाइबर भी किशमिश में होता है और पोटेशियम भी इसमें पाया जाता है। यह दोनों ही तत्व उन पेशेंट के लिए लाभकारी होते हैं जो हाई बीपी की समस्या से परेशान होते हैं, क्योंकि यह हाई बीपी को कंट्रोल करने के लिए उपयोगी होते हैं।

ये भी पढ़ें : कीवी क्या होता है? कीवी फल के फायदे, उपयोग, इस्तेमाल और नुकसान

5. दिल को स्वस्थ रखे किशमिश

ऐसे पेशेंट को हार्ड अटैक आने का खतरा ज्यादा होता है, जो बैड कोलेस्ट्रॉल की समस्या से ग्रसित होते हैं। हार्ड अटैक के जोखिम को कम करने के लिए आवश्यक है कि दिल को स्वस्थ बनाया जाए और दिल को स्वस्थ बनाने के लिए किशमिश खाना चालू करें क्योंकि इसमें पाया जाने वाला पॉलिफिनॉल्स और फाइबर हानिकारक फैट को कंट्रोल करते हैं जिससे दिल स्वस्थ बना रहता है।

6. बालों को मजबूती दे किशमिश

गिरते बाल किसी भी व्यक्ति को लंबे समय के बाद गंजा बना सकते हैं। आयरन और विटामिन ई की कमी होने पर ही बालों के झड़ने की अथवा बालों की टूटने की समस्या होती है। ऐसी अवस्था में किशमिश का सेवन किया जाना चाहिए क्योंकि आयरन और विटामिन दोनों ही किशमिश के अंदर मौजूद होता है। यह दोनों तत्व जब बॉडी को सही प्रकार से मिलते हैं, तो अन्य अंगों को पोषण मिलता है, साथ ही बालों की जड़ें मजबूत होती हैं और उनका झड़ना,टूटना, गिरना कम होता है।

7. त्वचा को ग्लोइंग बनाएं किशमिश

सुंदर चेहरा और सुंदर त्वचा हर लड़के और लड़की की कामना होती है। अगर आपको भी सुंदर त्वचा चाहिए तो किशमिश खाना चालू कर दें। यह खून खराबी को ठीक करता है, क्योंकि इसके अंदर एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो खून को साफ करते हैं। इससे चेहरे पर ऑटोमेटिक ही चमक आने लगती है।

ये भी पढ़ें : एंडोरा मास क्या होता है? एंडोरा मास के फायदे, प्रकार, उपयोग, इस्तेमाल और नुकसान

8. याददाश्त तेज करे किशमिश

विद्यार्थियों को एग्जाम के पहले काफी कुछ याद करना होता है और कमजोर याददाश्त के कारण वह सही से कुछ भी याद नहीं कर पाते हैं। इससे उनके परीक्षा में कम अंक आते हैं। याददाश्त तेज करने के लिए विद्यार्थियों को किशमिश खाना चाहिए। एंटी ऑक्सीडेंट तत्व इसके अंदर पाए जाते हैं जो याददाश्त को तेज करने का काम करते हैं। विद्यार्थियों के अलावा अन्य वर्ग के लोग भी इसे खा सकते हैं।

9. एनर्जी देता है किशमिश

हमें थकान तब ज्यादा महसूस होती है, जब हमारी बॉडी में एनर्जी नहीं होती है। एनर्जी पाने के लिए कार्बोहाइड्रेट का सेवन हमें करना चाहिए। कार्बोहाइड्रेट आपको रोटी और चावल से भी मिल जाता है परंतु अगर आप ड्राई फूड से कार्बोहाइड्रेट प्राप्त करना चाहते हैं तो किशमिश खाना चालू करें। कार्बोहाइड्रेट की अच्छी मात्रा इसके अंदर मौजूद होती है और इस बात की पुष्टि स्वयं एनसीबीआई की वेबसाइट ने की है।

10. डायबिटीज कंट्रोल करे किशमिश

किशमिश का स्वाद तो मीठा होता है परंतु इस में शुगर की मात्रा कम होती है। इसलिए डायबिटीज के ऐसे पेशेंट जिन्हें मीठा खाने का मन करता है वह किशमिश को खा सकते हैं। इसे खाने से उन्हें शुगर बढ़ने की समस्या ज्यादा नहीं होगी। हालांकि लिमिट में ही इसे खाएं।

किशमिश का उपयोग – Uses of Raisin in Hindi

  • इसे डायरेक्ट ही खा सकते हैं।
  • दूसरे ड्राई फ्रूट के साथ मिलाकर खा सकते हैं।
  • पानी में भिगोकर के खा सकते हैं।
  • सलाद के साथ इसे ट्राई कर सकते हैं।
  • हलवे में डाल सकते हैं।
  • ओट्स मे डाल सकते हैं।

किशमिश खाने का सही तरीका क्या है?

सामान्य लोगों की बात ना करते हुए अगर डॉक्टर के नजरिए से देखा जाए तो 1 स्वस्थ व्यक्ति को रोजाना 100 ग्राम से लेकर के 150 ग्राम तक किशमिश खानी चाहिए। अब इसे खाने का सही तरीका क्या है, यह भी आप जान ले। किशमिश ड्राई फूड की कैटेगरी में शामिल है। इसलिए आप इसे डायरेक्ट खा सकते हैं। बाकी आप अपनी आवश्यकता के अनुसार इसे खाने के लिए इस्तेमाल में ले सकते हैं।

किशमिश खाने के नुकसान – Side Effects of Raisins in Hindi

किशमिश पौष्टिक तत्वों से भरपूर एक बहुत ही बढ़िया ड्राई फ्रूट है, जिसे सही मात्रा में अगर आप लेना चालू करते हैं तो आपको इसके फायदे ही फायदे दिखाई देंगे। कुछ कंडीशन में यह नुकसानदायक साबित हो सकता है। हालांकि इसके जो नुकसान है, वह भी बहुत नॉर्मल है फिर भी उनके बारे में जानना जरूरी है।

1. वजन बढ़ना

पतले लोग कमजोरियों को दूर करने के लिए और एक हेल्थी लाइफस्टाइल पाने के लिए किशमिश खा सकते हैं परंतु जो लोग पहले से ही अधिक मोटापे का शिकार है उन्हें इसे नहीं खाना चाहिए, वरना वह मोटे हो सकते हैं, क्योंकि किशमिश के अंदर वजन बढ़ाने के गुण होते हैं।

2. एलर्जी

किशमिश डायरेक्ट तौर पर किसी को एलर्जी नहीं करती है बल्कि किसी व्यक्ति को अन्य कोई एलर्जी होती है और ऐसी अवस्था में अगर वह किशमिश खा लेता है तो बॉडी में सामान्य एलर्जी पैदा हो सकती है।

ये भी पढ़ें : Fennel Seeds क्या होता है? सौंफ के फायदे, उपयोग, इस्तेमाल और नुकसान

3. डायरिया और गैस

फाइबर की अधिक मात्रा किशमिश मे पाई जाती है, जो कब्ज का खात्मा करती है परंतु ज्यादा खाने पर डायरिया और गैस की प्रॉब्लम आपको अपने पेट में महसूस हो सकती है।

4. टाइप टू डायबिटीज

हमने आपको ऊपर बताया कि इसमें शुगर कम होता है। इसलिए डायबिटीज के पेशेंट इसे खा सकते परंतु ज्यादा सेवन ना करें वरना आपको टाइप 2 डायबिटीज की प्रॉब्लम हो सकती है।

किशमिश (Raisin) से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

किशमिश की तासीर क्या है?

गर्म

काली किशमिश किससे बनती है?

काले अंगूर से

किशमिश कैसे बनाई जाती है?

अंगूरों को सूखा करके

क्या हम घर पर किशमिश बना सकते हैं?

जी हां

खाली पेट किशमिश खाने से क्या होता है?

पेट की प्रॉब्लम खत्म होती है।

100 ग्राम किशमिश में कितना प्रोटीन होता है?

3.07 ग्राम

100 ग्राम किशमिश में कितनी शुगर होती है?

59.19 ग्राम

100 ग्राम किशमिश खाने से कितनी एनर्जी मिलती है?

299 केसीएएल

किशमिश का वानस्पतिक नाम क्या है?

विटिश विनिफेरा

निष्कर्ष

आज के इस लेख में आपने जाना की किशमिश क्या होता है? और किशमिश खाने के फायदे और नुकसान? (Benefits and Side Effects of Raisin in Hindi) इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद भी अगर आपके मन में kismis khane ke fayde को लेकर कोई सवाल उठ रहा है तो आप नीचे Comment करके पूछ सकते हैं। हमारी विशेषज्ञ टीम आपके सभी सवालों का जवाब देगी। अगर आपको लगता है कि इस लेख में कोई गलती है तो आप नीचे Comment करके हमसे बात कर सकते हैं, हम उसे तुरंत सुधारने की कोशिश करेंगे।

अगर आपको हमारे द्वारा kismis khane ke Nuksan पर दी गई जानकारी पसंद आई है और आपको इस लेख से कुछ नया सीखने को मिलता है, तो इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर शेयर करें। आप इस लेख का पोस्ट लिंक ब्राउजर से कॉपी कर सोशल मीडिया पर भी साझा कर सकते हैं।

Leave a Comment