सर्वांगासन क्या है? सर्वांगासन कैसे किया जाता है? सर्वांगासन के फायदे और नुकसान क्या है?

आज हम जानेंगे सर्वांगासन क्या है और कैसे करे पूरी जानकारी (Sarvangasana in Hindi) के बारे में क्योंकि योगा करने से हमारा शरीर स्वस्थ बनता है। इस बात की जानकारी तो सभी को थी परंतु फिर भी कई लोग आलस्य के कारण योगा नहीं करते थे, परंतु जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने योगा को महत्व दिया है और दुनिया भर में जब से 21 जून को हर साल विश्व योगा दिवस मनाया जा रहा है, तब से कई लोग योगा करना चालू कर दिए हैं और जब उन्हें योगा का फायदा प्राप्त हुआ, तो उन लोगों ने इसके फायदे के बारे में अन्य लोगों को भी बताया।

इस प्रकार योगा करने वाले लोगों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। योगा में कई आसन होते हैं जो अलग-अलग तरीके से फायदेमंद होते हैं। सर्वांगासन भी योगा का ही है, जो हमें फायदा देता है। आज के इस लेख में जानेंगे कि Sarvangasana Kya Hota Hai, सर्वांगासन के फायदे, Sarvangasana Yoga in Hindi, सर्वांगासन के नुकसान, सर्वांगासन कैसे करे, आदि की जानकारीयां पूरा डिटेल्स में जानने को मिलेगा, इसलिये इस लेख को सुरू से अंत तक जरूर पढे़ं।

सर्वांगासन क्या है? – What is Sarvangasana in Hindi

Sarvangasana In Hindi
Sarvangasana In Hindi

योगा में शामिल यह भी बहुत ही बढ़िया एक आसान है, जो शरीर को फायदा पहुंचाने का काम करता है। अगर इसका अर्थ निकाला जाए तो इसमें सर्व का मतलब होता है “पूरा” और “अंग” का मतलब होता है बॉडी का हिस्सा और आसन का मतलब होता है “मुद्रा” इस प्रकार सर्वांगासन शब्द बनता है। यह आसन हमारी मेंटल हेल्थ को बढ़िया करने का काम करता है।

इस आसन में आपको अपने कमर के हिस्से से लेकर के अपने पांव के हिस्से को आसमान की तरफ उठाना होता है और सपोर्ट के तौर पर आपको अपने दोनों हाथ अपने कमर के नीचे लगाने होते हैं। सर्वांगासन का एक अर्थ यह भी निकल करके आता है कि, एक ऐसा आसन जो बॉडी के अलग-अलग अंगों की कसरत करता है। अंग्रेजी लैंग्वेज में सर्वांगासन को “सोल्डर स्टैंड पोज” कहकर बुलाया जाता है।

सर्वांगासन कैसे किया जाता है? – How to do Sarvangasana easily in Hindi

सर्वांगासन क्या है? यह जान लेने के बाद हो सकता है कि आप अगले दिन से सर्वांगासन करने के बारे में सोच रहे हो। अगर आप सर्वांगासन करने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको Sarvangasana करने का तरीका क्या है, यह पता करना चाहिए, ताकि आप इसे सही विधि से कर पाए और इसका पूरा पूरा फायदा प्राप्त कर सकें।

1. सर्वांगासन करने के लिए सबसे पहले किसी खाली जगह में जमीन पर एक चटाई बिछाएं और उसके बाद पेट के बल चटाई पर लेट जाएं।

2. अब अपनी कमर के ऊपर का जो भी भाग है, उसे आसमान की तरफ करें और अपने दोनों हाथों से अपने कमर के नीचे सपोर्ट दें। यानी कि आपकी कमर का भाग, घुटनों का भाग और पैरों के पंजों का भाग आसमान की तरफ बिल्कुल सीधा होना चाहिए और आपकी कमर मुड़ी हुई होनी चाहिए।

3. अब अपनी छाती को अपने मुंह के पास लाने की कोशिश करें। अगर ऐसा करना संभव ना हो तो कोई बात नहीं, इसे छोड़ दें।

ये भी पढ़ें : सूर्य नमस्कार क्या होता है? सूर्य नमस्कार कैसे करते है? जानिए सूर्य नमस्कार के फायदे और नुकसान

4. जब आपकी कमर के ऊपर का भाग बिल्कुल सीधा हो तब उसे कम से कम 10 या 15 सेकंड रोक करके रखें। अगर आपके अंदर क्षमता है तो आप यह टाइमिंग बढ़ा भी सकते हैं।

5. इसके बाद वापस से मूल पोजीशन में आ जाए और फिर से कुछ देर रेस्ट लेने के बाद इसे करें। इस प्रकार आप जितनी बार इस आसन को करने में कंफर्टेबल हो, आप उतनी बार इस आसन को करें।

सर्वांगासन के फायदे – Benefits of Sarvangasana in Hindi

किसी भी चीज को करने से अगर व्यक्ति को फायदा होता है तो व्यक्ति उस चीज को पूरा मन लगाकर करता है। इसलिए सर्वांगासन करने से कौन से फायदे होते हैं, इसके बारे में आपको जान लेना चाहिए, ताकि आप पूरा मन लगाकर के इस योगाभ्यास को कर सकें।

1. बालों को गिरने से रोके सर्वांगासन

अगर कोई व्यक्ति रोजाना सर्वांगासन का अभ्यास करता है, तो इससे बालों की जड़ें मजबूत बनती है और उनका टूटना भी कम होता है, जिसके पीछे कारण यह निकल करके आता है कि Sarvangasana करने से दिमाग के आसपास के जो इलाके है, वहां पर ब्लड सरकुलेशन अच्छा होता है और इसी के कारण पौष्टिक तत्वो का आना जाना दिमाग की नसों में अच्छा होता है।

2. त्वचा की खूबसूरती बढ़ाए सर्वांगासन

लड़के और लड़कियों की त्वचा अच्छी रहे इससे ज्यादा उन्हें कुछ भी नहीं चाहिए होता है क्योंकि त्वचा अच्छी होने से पर्सनैलिटी में चार चांद लग जाते हैं। सर्वांगासन त्वचा को बढ़िया करने का काम करता है क्योंकि यह पिंपल और झुर्रियों के आने की रफ्तार को धीमा करता है। इससे चेहरे पर चमक बरकरार रहती है।

ये भी पढ़ें : हलासन क्या होता है? हलासन कैसे करते है? जानिए हलासन के फायदे और नुकसान

3. वजन कंट्रोल करें सर्वांगासन

मेटाबॉलिज्म अगर हमारी बॉडी में कंट्रोल में रहता है तो इससे हमारा वेट ज्यादा नहीं बढता है और यह करने में सर्वांगासन आपके लिए सहायक साबित होगा। यह वजन बढ़ने की प्रक्रिया को धीमी करता है।

4. यौन समस्या में राहत दे सर्वांगासन

अगर आपको छोटी मोटी यौन से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, तो आपके लिए सर्वांगासन करना बेनिफिशियल साबित हो सकता है।

5. थाइरोइड की प्रॉब्लम से राहत दिलाए सर्वांगासन

अगर आप रोजाना सर्वांगासन करते हैं तो इससे होता यह है कि जो थायराइड की ग्रंथियां आपकी बॉडी में तेजी के साथ बढ़ती है, उनके बढ़ने की रफ्तार धीमी पड़ जाती है।

6. आंखों को बढ़िया करे सर्वांगासन

अगर आप इस आसन को किसी एक्सपर्ट की देखरेख में करते हैं तो यह आपकी आंखों को बढ़िया करने का काम करता है और छोटी मोटी आंखों की प्रॉब्लम को दूर भगाता है।

ये भी पढ़ें : अनुलोम विलोम प्राणायाम क्या है? अनुलोम विलोम प्राणायाम के फायदे और नुकसान

7. अल्सर खत्म करें सर्वांगासन

जब आप सर्वांगासन करते हैं तो बॉडी के खाने को पचाने के लिए जो जरूरी एंजाइम होते हैं, उनका स्राव तेजी के साथ होता है, जिससे अल्सर की प्रॉब्लम से आप निजात पाते हैं। इसके अलावा बता दे कि कब्ज और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या में भी Sarvangasana करना फायदेमंद माना जाता है।

सर्वांगासन के नुकसान क्या है? – Side Effects of Sarvangasana in Hindi

सर्वांगासन सेहत को अच्छा करने के लिए किया जाता है परंतु इसमें भी कोई दो राय नहीं है कि कुछ ऐसी कंडीशन होती है, जिसमें Sarvangasana को किया जाना उचित नहीं माना जाता है। हमारा यह फर्ज बनता है कि अगर हमने आपको इसके फायदे बताए हैं, तो इसके नुकसान भी अवश्य बताएं, ताकि आप यह डिसीजन ले सके कि वास्तव में आपको इसे करना है अथवा नहीं।

1. हाई ब्लड प्रेशर की प्रॉब्लम

योगा के कुछ ट्रेनर ने इस बात को स्वीकार किया है कि सर्वांगासन ऐसे लोगों को नहीं करना चाहिए, जो हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से परेशान है, क्योंकि इस आसन को करने पर संभावित है कि उनकी परेशानी और बढ़ सकती है।

2. पीरियड में ना करें

पीरियड के दरमियान भी इसे करने के लिए मना किया जाता है क्योंकि कुछ लोगों ने यह कहा है कि पीरियड के दरमियान इसे करने से पेट में काफी तेज दर्द होता है।

3. रीढ की हड्डी की प्रॉब्लम

रीढ की हड्डी बिल्कुल सीधी होती है और उसे अधिक देर तक टेढ़ा करके रखा जाता है तो दर्द होने लगता है। इसलिए रीड की हड्डी में अगर आपको कोई चोट लगी है तो आपको इसे करने से बचना चाहिए।

ये भी पढ़ें : लम्बाई कैसे बढ़ाये? हाइट बढ़ाने के लिए योग, दवा,भोजन और व्यायाम की पूरी जानकारी

4. गले की हड्डी की प्रॉब्लम

सर्वांगासन में आपके गले की हड्डी पर भी काफी प्रेशर आता है। इसलिए गले की हड्डी से संबंधित कोई प्रॉब्लम आपको है, तो आपको इसे नहीं करना चाहिए।

सर्वांगासन कितनी देर तक करना चाहिए?

देखिए यहां पर हम आपको यह स्पष्ट तौर पर बता दे कि हम आपको यह बिल्कुल भी नहीं कहेंगे कि सर्वांगासन आपको कितनी देर करना चाहिए, क्योंकि हर व्यक्ति की बॉडी की कंडीशन अलग-अलग होती है और हर व्यक्ति की कैपेसिटी भी अलग अलग होती है। बात करें अगर Sarvangasana करने की तो इसका निर्णय आपको ही लेना है, क्योंकि आप अपनी बॉडी को कितनी देर तक थाम पाते हैं, यह आपको अच्छी तरह से पता होता है। अगर अनुमान के मुताबिक देखा जाए, तो हमारी सलाह में सर्वांगासन आपको 1 बार में 15 से 16 सेकंड करना चाहिए और फिर रेस्ट लेना चाहिए और फिर से प्रक्रिया को दोहराना चाहिए।

सर्वांगासन करने से पहले और बाद में कौन सा आसन करें?

कई लोग यह जानने की इच्छा रखते हैं कि सर्वांगासन करने से पहले क्या कोई ऐसा भी है आसन है जो हम कर सकते हैं और Sarvangasana करने के बाद भी क्या कोई ऐसा आसान है, जिसे हम कर सकते हैं, तो नीचे हमने आपके लिए सर्वांगासन करने के पहले और बाद में कौन से आसन करने चाहिए, उसके नाम पेश किए हैं।

सर्वांगासन करने से पहले

  • हलासन
  • वज्रासन
  • सेतुबंध सर्वांगासन

सर्वांगासन करने के बाद

  • ऊर्ध्व धनुरासन
  • शीर्षासन
  • शवासन

सर्वांगासन (Sarvangasana) से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

सर्वांगासन करने का सबसे अच्छा समय कौन सा है?

सुबह का समय

एक बार में कितनी बार सर्वांगासन करना चाहिए?

8 से 10 बार

सर्वांगासन करने का वीडियो कहां मिलेगा?

यूट्यूब पर

सर्वांगासन कब नहीं करना चाहिए?

कमर की प्रॉब्लम, गले की प्रॉब्लम, घुटनों की प्रॉब्लम में

शीर्षासन कब करें?

सर्वांगासन करने के बाद

हलासन कब करें?

सर्वांगासन करने के पहले

निष्कर्ष

आज के इस लेख में आपने जाना की सर्वांगासन क्या होता है? और सर्वांगासन के फायदे और नुकसान? (Benefits and Side Effects of Sarvangasana in Hindi) इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद भी अगर आपके मन में Sarvangasana ke fayde को लेकर कोई सवाल उठ रहा है तो आप नीचे Comment करके पूछ सकते हैं। हमारी विशेषज्ञ टीम आपके सभी सवालों का जवाब देगी। अगर आपको लगता है कि इस लेख में कोई गलती है तो आप नीचे Comment करके हमसे बात कर सकते हैं, हम उसे तुरंत सुधारने की कोशिश करेंगे।

अगर आपको हमारे द्वारा Sarvangasana ke Nuksan पर दी गई जानकारी पसंद आई है और आपको इस लेख से कुछ नया सीखने को मिलता है, तो इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर शेयर करें। आप इस लेख का पोस्ट लिंक ब्राउजर से कॉपी कर सोशल मीडिया पर भी साझा कर सकते हैं।

Leave a Comment