टैपिओका क्या होता है? टैपिओका के फायदे, प्रकार, उपयोग, इस्तेमाल और नुकसान क्या है? जानिए Tapioca Ke Fayde aur Nuksan से जुड़ी सभी जानकारी हिन्दी में

आज हम जानेंगे टैपिओका के फायदे और नुकसान क्या है पूरी जानकारी (Tapioca in Hindi) के बारे में क्योंकि अगर आपसे यह पूछा जाए कि भारतीय महिलाएं उपवास करने के बाद उपवास का जब समापन करती है, तब कौन सी चीज अधिक खाना पसंद करती हैं, तो आप शायद फल जवाब के तौर पर कहेंगे परंतु इसके अलावा भी एक ऐसी चीज है जो भारतीय महिलाएं उपवास में काफी ज्यादा खाती है। हम बात कर रहे हैं साबूदाना की।

साबूदाना एक ऐसी चीज है जो आसानी से किसी भी पंसारी की दुकान पर मिल जाती है। इसकी अलग-अलग चीजें खाने के लिए बनाई जाती हैं जिसे बनाने की प्रक्रिया अलग-अलग होती है। मुख्य तौर पर इसे उपवास के अंदर ही इस्तेमाल में लिया जाता है। आज के इस लेख में जानेंगे कि Tapioca Kya Hai, टैपिओका के फायदे, Tapioca in Hindi, टैपिओका के नुकसान, Tapioca meaning in Hindi, आदि की जानकारीयां पूरा डिटेल्स में जानने को मिलेगा, इसलिये इस लेख को सुरू से अंत तक जरूर पढे़ं।

टैपिओका क्या है? – What is Tapioca in Hindi

Tapioca In Hindi
Tapioca In Hindi

Tapioca को इंडिया के हर राज्य में अलग-अलग नाम दिया गया है। कई जगह पर इसे कसावा नाम से जाना जाता है। टैपिओका पाने के लिए किसानों के द्वारा कसावा के पौधे की खेती की जाती है और जब यह पौधा बन करके तैयार होता है तब इसमें से Tapioca मिलता है।

Tapioca कहां से आया इसके बारे में अगर बात की जाए तो यह दक्षिण अमेरिका से निकलकर के पूरी दुनिया में फैला हुआ है और आज पूरी दुनिया के अलावा हमारे इंडिया में ऐसे कई इलाके हैं जहां पर भारी मात्रा में टैपिओका की खेती की जाती है।

इंडिया में लोग इसे कई नाम से बुलाते हैं। खाने में टेस्टी लगने वाला टैपिओका स्वास्थ्य के लिहाज से भी हमारे लिए बेनिफिशियल होता है। Tapioca की जो जड़ होती है, उसमें भारी मात्रा में Starch की मौजूदगी होती है और इसी स्टार्च का इस्तेमाल साबूदाने को तैयार करने के लिए होता है।

इंडिया में आंध्र प्रदेश, केरल और तमिलनाडु तथा कर्नाटक कुछ ऐसे राज्य हैं जहां पर Tapioca की पैदावार अच्छी होती है क्योंकि यहां की जलवायु उष्णकटिबंधीय है और इसकी खेती करने के लिए उष्णकटिबंधीय जलवायु अच्छी मानी जाती है।

टैपिओका को हिंदी में क्या बोलते हैं – Tapioca meaning in Hindi

कसावा को अंग्रेजी में टैपिओका और हिंदी में साबूदाना के नाम से जाना जाता है। पहले के समय में साबूदाना तैयार करने के लिए देसी पद्धति का इस्तेमाल किया जाता था परंतु अब आधुनिक पद्धति का इस्तेमाल करके साबूदाने को तैयार किया जाता है और उसे बेचने के लिए मार्केट में भेजा जाता है।

ये भी पढ़ें : ब्रोकली क्या होता है? ब्रोकली के फायदे, प्रकार, उपयोग, इस्तेमाल और नुकसान क्या है?

साबूदाना दिखाई देने में ठीक वैसा ही होता है जैसा कि दूध का रंग होता है। हालांकि दूध तरल होता है और यह गोल गोल और छोटा छोटा होता है। आधुनिक मशीनों के द्वारा बड़ा साबूदाना भी तैयार किया जाता है और छोटे दाने वाले साबूदाने भी तैयार किए जाते हैं।

टैपिओका के उपयोग क्या है? – Uses of Tapioca in Hindi

  • खीर बना सकते हैं।
  • खिचड़ी बना सकते हैं।
  • वडा बना सकते हैं।
  • सब्जियों में मिला सकते हैं।
  • पापड़ बना सकते हैं।
  • थालीपीठ व्यंजन बना सकते हैं।
  • बेसन में मिक्स करके बेसन के लड्डू बना सकते हैं।
  • व्रत में खा सकते हैं।
  • हलवा बना सकते हैं।

टैपिओका की तासीर क्या है?

ठंडी तासीर वाला Tapioca यानी कि साबूदाना ऐसी महिलाओं के द्वारा खाने के लिए ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है जो कोई धार्मिक व्रत रखती है। टैपिओका खरीदने के लिए आप अपने लोकल मार्केट जा सकते हैं। वहां पर अगर यह नहीं मिलता है तो आप ऑनलाइन भी इसे बुक कर सकते हैं। इसकी खिचड़ी खाने में बहुत ही टेस्टी लगती है साथ ही आप इसकी बढ़िया सी खीर भी तैयार कर सकते हैं।

टैपिओका के प्रकार – Types of Tapioca in Hindi

  1. टेपिओका पाउडर
  2. टैपिओका बॉल
  3. टैपिओका पर्ल्स/ साबूदाना
  4. टैपिओका चिप्स

टैपिओका के फायदे – Benefits of Tapioca in Hindi

दरअसल अभी तक लोग टैपिओका को सिर्फ व्रत में ही खाते आए हैं, उन्होंने कभी भी इसके फायदे के बारे में ध्यान ही नहीं दिया है, क्योंकि लोगों को अपनी जीभ का स्वाद पसंद होता है परंतु जब आप टेपियोका खा ही रहे हैं, तो इसके फायदे जान ही लें, ताकि आप स्वाद के साथ-साथ सेहत के फायदे भी प्राप्त कर सके।

1. सर दर्द दूर भगाए टैपिओका

वैसे तो सर दर्द को तुरंत छूमंतर करने के लिए कई अंग्रेजी दवाएं उपलब्ध है परंतु यह कुछ ही समय के लिए काम करती हैं और उसके बाद फिर से आपको सर दर्द होना चालू हो जाता है। सर दर्द की समस्या से आयुर्वेदिक तरीके से अगर आप छुटकारा पाना चाहते हैं, तो आपको फाइबर, पोटेशियम, मैग्नीशियम और प्रोटीन से भरपूर Tapioca को खाने में शामिल करना चाहिए। इसमें जो भी पोस्टिक तत्व होते हैं, वह सर दर्द को दूर हटाने का काम करते हैं।

2. लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में टैपिओका के लाभ

शरीर में खून की कमी हो जाने पर हमें कमजोरी महसूस होती है और हमारा स्वभाव भी चिड़चिड़ा हो जाता है। इसके साथ ही अत्यधिक थकान भी हमें लगने लगती है। इन सभी समस्याओं को दूर करने के लिए आपको टैपिओका खाना चाहिए। बता दे कि टैपिओका में जिंक, कॉपर और आयरन पाया जाता है।

ये भी पढ़ें : साबूदाना क्या होता है? साबूदाना कैसे बनता है?

इसके अलावा इसमें विटामिन B12 भी होता है, जो बॉडी में जाने के बाद रेड ब्लड सेल्स का निर्माण काफी तेजी से करता है। इससे थकान और कमजोरी की समस्या दूर होती है साथ ही हमारी बॉडी में हिमोग्लोबिन का लेबल भी बढता है।

3. पाचन तंत्र में टैपिओका के लाभ

कब्ज, एसिडिटी, गैस, अपच, कम भूख लगना यह कुछ ऐसी सामान्य समस्याएं हैं जिनसे अधिकतर लोग परेशान ही रहते हैं फिर चाहे वह महिला हो या फिर पुरुष हो। टैपिओका में फाइबर पाया जाता है। यह फाइबर सीधा इन समस्याओं पर हमला करता है और इन समस्याओं से व्यक्ति को निजात दिलाता है। टैपिओका खाने से पेट में खाने का पाचन सही से होता है और गैस, एसिडिटी की समस्या भी दूर होती है।

4. आंखों में टैपिओका के फायदे

आंखों की रोशनी कमजोर हो जाने पर हमें कोई भी चीज साफ साफ नहीं दिखाई देती है और यह कभी-कभी बड़ी दुर्घटना का कारण भी बन सकती है। इसीलिए आंखों को स्वस्थ रखने के लिए टेपियोका आपको खाना चालू कर देना चाहिए, क्योंकि इसमें पाया जाता है विटामिन ए, जो आंखों को स्वस्थ बनाने का काम करता है। यह आंखों की रोशनी को भी तेज करता है, जिससे आपको साफ-साफ सभी चीजें दिखाई देती हैं।

5. मजबूत हड्डियों के निर्माण में टैपिओका के फायदे

बढ़ती उम्र के साथ हमारी बॉडी की हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। इसके अलावा कैल्शियम की कमी के कारण भी यह समस्या होती है। टैपिओका में जो कैल्शियम होता है, वह सीधा हड्डियों को स्ट्रांग करने का काम पहले दिन से ही चालू करता है और कोई व्यक्ति अगर लगातार 4 महीने तक Tapioca का सेवन रोजाना करता है तो इससे उसकी हड्डियां बहुत ही बढ़िया हो जाती है और हड्डियों की छोटी-मोटी समस्याएं भी दूर हो जाती है।

6. कमजोरी दूर करने में टैपिओका के फायदे

यूट्यूब पर ऐसे कई वीडियो आपने देखे होंगे जिसमें यह बताया जाता है कि Tapioca कमजोरी को दूर करने के लिए भी खाया जा सकता है। दरअसल यह कमजोरी को दूर करने के लिए अकेले इस्तेमाल नहीं किया जाता है बल्कि टैपिओका के साथ आपको अश्वगंधा और शतावरी पाउडर को भी लेना पड़ता है।

ये भी पढ़ें : प्रोटिनेक्स क्या होता है? जानिए प्रोटिनेक्स खाने के फायदे और नुकसान 

इन तीनों का कॉन्बिनेशन करके अगर आप लगातार 3 महीने तक इसका सेवन करते हैं तो यह निश्चित ही आपकी शारीरिक कमजोरियों को दूर करता है। जिम जाने वाले लोग भी इसे ले सकते हैं। इसके अलावा जो लोग घर पर ही योगा करते हैं, वह भी इसे खा सकते हैं।

7. टैपिओका के फायदे त्वचा में चमक लाने के लिए

अपनी त्वचा को अच्छी करने के लिए आपको महंगा प्रोडक्ट इस्तेमाल करने की आवश्यकता नहीं है। अगर आप भोजन में Tapioca शामिल कर लेते हैं तो इसके अंदर मौजूद पौष्टिक तत्व आपकी त्वचा की ब्राइटनेस को बढ़ाने का काम करते हैं, साथ ही इसमें पाए जाने वाले विटामिन, मिनरल और एंटीऑक्सीडेंट त्वचा की कोशिकाओं को हेल्दी बनाते हैं जिससे उनमें नई जान आती है और आपका चेहरा खिला-खिला लगता है।

8. वजन बढ़ाने में टैपिओका के फायदे

टैपिओका पतले लोगों के लिए भी वरदान है। पतले लोग अपनी कमजोरी को दूर करने के लिए साथ ही मोटा होने के लिए Tapioca के पाउडर को खाना चालू कर सकते हैं परंतु उन्हें इसे अकेले नहीं लेना है बल्कि उन्हें मुसली पाउडर और वेट गेनर पाउडर के साथ रोजाना सुबह और शाम तीन तीन चम्मच टैपिओका पाउडर को भैंस के गर्म दूध के साथ लेना है। 3 से 4 महीने तक लगातार आपको यह उपाय जारी रखना है। इसके बाद आप यह महसूस करेंगे कि आपका वजन पहले से बढा है।

टैपिओका के नुकसान – Side Effects of Tapioca in Hindi

जिन लड़कियों के पेट में बच्चा है उन्हें टैपिओका खाने के लिए मना किया जाता है। डिलीवरी हो जाने के बाद वह इसे खा सकती हैं। फाइबर की मात्रा इसमें ज्यादा होती है इसीलिए अधिक सेवन करने पर आपको दस्त और उल्टी हो सकती है। कार्बोहाइड्रेट की मात्रा भी इसमें अधिक होती है।

ये भी पढ़ें : बियर क्या होता है? बियर पीने के फायदे और नुकसान क्या है?

इसलिए वजन कम करने वाले लोगों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए वरना उनका वजन बढ़ सकता है। डायबिटीज के पेशेंट को भी इसे नहीं खाना चाहिए क्योंकि इसमें शुगर भी ठीक-ठाक मात्रा में उपलब्ध होती है। आपको हमेशा पके हुए टैपिओका को ही खाना चाहिए।

टैपिओका का पौधा कैसा होता है? – Tapioca Plant in Hindi

आपने ग्रामीण इलाकों में खाई जाने वाली शकरकंद देखी होगी, उसी से टैपिओका के पौधे की शक्ल मिलती जुलती है। टैपिओका के पौधे की सबसे खास बात यह है कि जब आप इसे जमीन में बो देते हैं तब आपको इसे कम पानी देना पड़ता है क्योंकि यह ज्यादा पानी नहीं मांगता है।

टैपिओका के आटे का क्या उपयोग है? – Tapioca Flour in Hindi

टैपिओकाआटे का इस्तेमाल इंडिया के कुछ इलाकों में बाजरे के आटे के साथ मिलाकर के रोटी बनाने के लिए किया जाता है। इसके अलावा इसके आटे का इस्तेमाल करके आप चटपटा और टेस्टी नाश्ता भी तैयार कर सकते हैं। इसके लिए बस आपको नेट पर सर्च करना है टैपिओका रेसिपी इन हिंदी। इसके बाद आपको टैपिओका के आटे से बनाई गई कई रिजल्ट दिखाई देंगे।

टैपिओका मोती क्या है? – Tapioca Pearls in Hindi

Tapioca Pearl यानी की साबूदाने को बनाने के लिए सबसे पहले कसावा लिया जाता है और उसका स्टार्च इकट्ठा करके उसे मशीनी प्रक्रिया का इस्तेमाल करके टैपिओका में तब्दील किया जाता है। टैपिओका जब बिल्कुल रेडी हो जाता है तो इसकी पैकिंग की जाती है और कंपनियां अपने अपने ब्रांड के नाम से इसे मार्केट में बेचती है। मुख्य तौर पर इसे महिलाऐ तब खाती है, जब वह अपने व्रत का समापन करती हैं।

टैपिओका स्टार्च क्या है? -Tapioca Starch in Hindi

जब कसावा का पौधा खोदने के लिए तैयार हो जाता है, तब इसे खोदा जाता है, क्योंकि इसकी जड़ में से ही टैपिओका स्टार्च मिलता है और इसी टैपिओका स्टार्च का इस्तेमाल करते हुए अलग-अलग पद्धति से अलग-अलग आकार के टेपियोका को बनाया जाता है। लोगों की डिमांड के हिसाब से टैपिओका स्टार्च का इस्तेमाल साबूदाना बनाने के लिए होता है। कुछ कंपनियां मोटे दाने के साबूदाने बनाती हैं, तो कुछ कंपनियां छोटे दाने के साबूदाना बनाती हैं।

टैपिओका का बीज कैसा होता है? – Tapioca Seeds in Hindi

साउथ अफ्रीका देश में भारी मात्रा में सेगो नाम का एक पेड़ पाया जाता है। इस पेड़ के तने में से जो गुदा निकलता है, उसे इकट्ठा किया जाता है और फिर मशीनी प्रक्रिया से इस गुदे का इस्तेमाल करके उपवास में खाए जाने वाले साबूदाने को बनाया जाता है।

क्या टैपिओका वजन घटाता है? – is tapioca good for weight loss

मशीनी प्रक्रिया से जो टैपिओका तैयार किया जाता है, उसमें पोषक तत्वों की उपलब्धि काफी कम हो जाती है परंतु कार्बोहाइड्रेट और ज्यादा कैलरी इसमें हमेशा से ही पाई जाती है। इसलिए जो लोग वजन घटाने के लिए साबूदाना खाना सही या फिर नहीं, इसके बारे में जानना चाहते हैं, उन्हें इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

यह वजन घटाने वाले लोगों के लिए सही नहीं है, परंतु जो लोग वजन घटाना नहीं बढ़ाना चाहते हैं, वह इसको खाने में शामिल कर सकते हैं।

क्या मधुमेह में टैपिओका फायदेमंद है? – is tapioca good for diabetes

डायबिटीज के मरीजों को डॉक्टर के द्वारा हर उस चीज को ज्यादा मात्रा में खाने से मना किया जाता है जिसका निर्माण स्टार्च के द्वारा किया जाता है और बता दे कि टेपियोका में स्टार्च की भारी मौजूदगी होती है। इसलिए डायबिटीज के मरीजों को इसे नहीं खाना चाहिए। फिर भी अगर उनका मन नहीं मानता है और वह इसे खाना चाहते हैं तो रोजाना उन्हें सिर्फ 1 से 2 चम्मच ही साबूदाना खाना चाहिए।

क्या टैपिओका सेहत के लिए फायदेमंद है? – is tapioca good for health

कुछ कंडीशन में यह आदमियों को नहीं खाना चाहिए परंतु ओवरऑल देखा जाए तो टैपिओका में जो तत्व होते हैं, वह विभिन्न प्रकार से हमारी बॉडी के लिए फायदेमंद होते हैं। हालांकि इन में पोषक तत्वों की कमी काफी कम होती है परंतु फिर भी कुछ ना कुछ पौष्टिक तत्व तो हमें टैपिओका से प्राप्त होते ही हैं। यह हमें एनर्जी देते हैं, हमारी जीभ के स्वाद को बढ़िया करते हैं, हमारी भूख को शांत करते हैं।

Tapioca बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

रोजाना हमें कितना टैपिओका खाना चाहिए।

ऐसा कहा जाता है कि टैपिओका का अगर पूरा फायदा हमें प्राप्त करना है तो हमें इसे रोजाना एक से दो कटोरी तक खाना चाहिए। इससे ज्यादा खाने पर हमें कुछ नुकसान हो सकते है।

टैपिओका का साइंटिफिक नाम क्या है?

टैपिओका जिसे हिंदी में `कहा जाता है, इसका साइंटिफिक नाम “Manihot Esculenta Crantz है।

टैपिओका कैसा दिखाई देता है?

टैपिओका जब मशीनी प्रक्रिया का इस्तेमाल करके तैयार कर लिया जाता है, तो यह छोटा-छोटा और वाइट कलर का दिखाई देता है।

कसावा स्टार्च को क्या कहा जाता है?

Tapioca

भारत में टैपिओका की सबसे ज्यादा खेती कहां होती है?

इंडिया में इसकी अधिक खेती तमिलनाडु के शैलम जिले में होती है यहां पर टैपिओका को प्रोसेस करके साबूदाना बनाने के लिए कई फैक्ट्रियां स्थापित है जो हर साल लाखों टर्न टेपियोका बनाते हैं और उसे इंडिया के अलावा विदेशों में भी एक्सपोर्ट करते हैं

टैपिओका में कौन से पोस्टिक तत्व ज्यादा होते हैं?

इसमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा ज्यादा होती है तथा फाइबर भी अच्छी मात्रा में होता है। इसके अलावा प्रोटीन, फैट, विटामिन, मिनरल भी ठीक-ठाक मात्रा में होते हैं।

निष्कर्ष

आज के इस लेख में आपने जाना की टैपिओका क्या होता है? और टैपिओका के फायदे और नुकसान? (Tapioca in Hindi) इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद भी अगर आपके मन में Tapioca Ke Fayde aur Nuksan को लेकर कोई सवाल उठ रहा है तो आप नीचे Comment करके पूछ सकते हैं। हमारी विशेषज्ञ टीम आपके सभी सवालों का जवाब देगी।

अगर आपको लगता है कि इस लेख में कोई गलती है तो आप नीचे Comment करके हमसे बात कर सकते हैं, हम उसे तुरंत सुधारने की कोशिश करेंगे। अगर आपको हमारे द्वारा Tapioca in Hindi पर दी गई जानकारी पसंद आई है और आपको इस लेख से कुछ नया सीखने को मिलता है, तो इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ जरूर शेयर करें। आप इस लेख का पोस्ट लिंक ब्राउजर से कॉपी कर सोशल मीडिया पर भी साझा कर सकते हैं।

Leave a Comment